अंतरिक्ष की रेस में पहला कौन? भारत या पाकिस्तान : 2022 में अपने नागरिक को अंतरिक्ष भेजने का है मिशन

अंतरिक्ष की रेस में पहला कौन? भारत या पाकिस्तान : 2022 में अपने नागरिक को अंतरिक्ष भेजने का है मिशन
Click for full image

इस्लामाबाद : पाकिस्तान 2022 में पहली बार अपने नागरिक को अंतरिक्ष भेजने की तैयारी कर रहा है। सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने गुरुवार को घोषणा की कि पाकिस्तान, चीन की मदद से अपने नागरिक को अंतरिक्ष भेजेगा। प्रधानमंत्री खान तीन नवंबर को चीन की अपनी पहली यात्रा पर रवाना होंगे और राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ बैठक करेंगे।

‘द न्यूज’ की रिपोर्ट के अनुसार, चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान ने 2022 में अपना पहला अंतरिक्ष अभियान भेजने की योजना बनाई है और गुरुवार को प्रधानमंत्री के नेतृत्व में हुई संघीय मंत्रिमंडल की बैठक में योजना को मंजूरी दी गई।

रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान अंतरिक्ष एवं बाह्य वातावरण शोध आयोग और एक चीनी कंपनी के बीच पहले ही एक समझौते पर हस्ताक्षर किया जा चुका है। इससे पहले इस साल पाकिस्तान ने चीनी प्रक्षेपण यान की मदद से दो उपग्रहों को पृथ्वी की कक्षा में भेजा था। दोनों उपग्रहों का निर्माण पाकिस्तान में किया गया था।

इससे पहले, पीएम मोदी ने इस साल स्वतंत्रता दिवस पर कहा था कि 2022 तक एक भारतीय को अंतरिक्ष में भेजा जायेगा. क्रू का चयन भारतीय वायुसेना और इसरो द्वारा संयुक्त रूप से किया जायेगा. इसके बाद उन्हें दो-तीन साल तक प्रशिक्षण दिया जायेगा. इसरो ने अंतरिक्ष की यात्रा कर चुके पहले भारतीय राकेश शर्मा की भी सलाह लेने की योजना बनायी है.

गगनयान के पहले मिशन में वायु सेना के पायलटों को प्राथमिकता मिलने की उम्मीद है, लेकिन पायलटों के अलावा अन्य व्यक्तियों के चयन का विकल्प भी खुला है.

निश्चित रूप से सभी अंतरिक्ष यात्री अनुसंधानों को अंजाम देनेवाले विशेषज्ञ होंगे. गगनयान में तीन मॉड्यूल होंगे. एक क्रू मॉड्यूल तीन भारतीयों को लेकर जायेगा, जिसे सर्विस मॉड्यूल के साथ जोड़ा जायेगा. दोनों को रॉकेट की मदद से श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया जायेगा. गगनयान को अरब सागर में उतारने की योजना है.

यान को कक्षा से समुद्र की सतह पर उतरने में 36 मिनट का समय लगेगा. वापसी के दौरान 120 किलोमीटर की ऊंचाई पर सर्विस मॉड्यूल भी यान से अलग हो जायेगा और सिर्फ क्रू मॉड्यूल पैराशूट के सहारे समुद्र में उतरेगा. वहीं, अगर कुछ तकनीकी समस्या आती है तो उसे बंगाल की खाड़ी में उतारा जायेगा.

Top Stories