Wednesday , May 23 2018

“SPEAK ASIA” के मालिक को पुलिस ने दबोच लिया

मल्टी लेवल मार्केटिंग (एमएलएम) के जरिये मुल्क भर के तकरीबन 24 लाख लोगों से 2200 करोड़ रुपए से ज़्यादा ठगने वाली कंपनी स्पीक एशिया के मालिक को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दबोच लिया है।

मल्टी लेवल मार्केटिंग (एमएलएम) के जरिये मुल्क भर के तकरीबन 24 लाख लोगों से 2200 करोड़ रुपए से ज़्यादा ठगने वाली कंपनी स्पीक एशिया के मालिक को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दबोच लिया है।

मुल्ज़िम उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के गांव नगरपाल का साकिन राम सुमिरन पाल है। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के इजाफी पुलिस कमिश्नर रविंद्र यादव के मुताबिक, डीसीपी कुमार ज्ञानेश और एससीपी सुरेश कौशिक की टीम को इत्तेला मिली कि राम सुमिरन पाल कनॉट प्लेस इलाके में प्रॉपर्टी के सिलसिले में आने वाला है।

इत्तेला की बुनियाद पर मौके पर पहुंची पुलिस ने राम सुमिरन पाल को दबोच लिया। पुलिस के मुताबिक, राम सुमिरन ने अपने भाई और एक दूसरे शख्स के साथ मिलकर स्पीक एशिया के इलावा कई एमएलएम कंपनियां बनाई।

सरमाकारो (Investors) का भरोसा जीतने के लिए सिंगापुर के इलावा ब्राजील और इटली में भी एडमेटरिक्स प्राइवेट लिमिटेड और सेवन रिंग्स इंटरनेशनल के नाम से कंपनी रजिस्टर्ड कराई।

28 माह में 24 लाख लोगों से 2276 करोड़ रुपए बटोरने के बाद कंपनी के आफीसर फरार हो गए। ठगी के इस मामले में मुल्क भर में दर्जनों एफआईआर दर्ज हुईं।

मुंबई Economic Crime Branch ने स्पीक एशिया के तकरीबन 210 बैंकों में जमा 142 करोड़ रुपए फ्रीज कर दिए। 150 बैंक खाते जांच के दायरे में आए। एमएलएम के नाम पर ठगी के इस सनसनीखेज मामले में पुलिस को राम सुमिरन के भाई राम निवास और मनोज नामी शख्स की तलाश है।

स्पीक एशिया सिंगापुर की एक ऑनलाइन सर्वे कंपनी है। यह कंपनी एक मेम्बर से सालाना रजिस्ट्रेशन के लिए 11 हजार रुपये लेती थी। कंपनी का दावा था कि वो कंटेंट डेवलपमेंट, ऑनलाइन सर्वे और मार्केटिंग के कारोबार में है।

ऑनलाइन सर्वे के बदले स्पीक एशिया के मेम्बरों को 500 रुपए फी सर्वे दिया जाता था। महीने में कुल 8 सर्वे कराए जाते थे। यानी 3 महीने में 11 हजार रुपए वसूल हो जाते थे। हिंदुस्तान में पैसा लगाने वालों की तादाद में 20 लाख के पार निकल गई थी।

TOPPOPULARRECENT