Tuesday , December 12 2017

रोहिंग्या मुसलमानों पर मोदी सरकार का हलफ़नामा नफ़रत और साम्प्रदयिक मानसिकता का सबूत: आरिफ खान

मुंबई: महाराष्ट्र के पूर्व अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेस विधायक मोहम्मद आरिफ नसीम खान ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से रोहिंग्या मुसलमानों के संबंध में सुप्रीम कोर्ट में दायर किया गया हलफनामा सांप्रदायिकता के आधार पर दिया गया एक बयान है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

उन्होंने सरकार से मांग किया है कि केंद्र सरकार इस मामले में अपनी पूर्व परंपराओं के मुताबिक इंसानियत की आधार पर शरणार्थियों को देश में बसने की इजाजत दे। मुंबई में जारी एक बयान में आरिफ नसीम खान ने कहा कि केन्द्रीय सरकार ने रोहिंग्या मुसलमानों को देश में रहने को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया है, जबकि सच यह है कि वह हिंसा व अत्याचार का शिकार हुए और उन्होंने अपने देश को मजबूरी में छोड़ा है।

नसीम खान ने कहा कि आज़ादी के बाद भारत ने कई परिस्तिथियों में शरणार्थीयों को अपने देश में रहने की अनुमति दी गई है। मोदी सरकार ने सांप्रदायिकता का आइना लगा कर जो यह हलफनामा दायर किया है। यह देश की सभी पिछली परंपराओं को तोड़ चुका है।

गौरतलब है कि इस संबंध में नसीम खान ने राष्ट्रपति को भी एक पत्र भेजा था और मांग की थी कि रोहिंग्या मुसलमानों को भारत में मानवीय आधार पर रहने की अनुमति दी जाए जैसा कि अतीत में विभिन्न देशों से उत्पीड़न का शिकार हुए लोगों को आश्रय दिया गया।

TOPPOPULARRECENT