रोहिंग्या नरसंहार: फ्रांस ने भी आंगसांग सूची से मानद उपाधि वापस लेने का फैसला किया

रोहिंग्या नरसंहार: फ्रांस ने भी आंगसांग सूची से मानद उपाधि वापस लेने का फैसला किया

रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार को लेकर पुरी दुनिया में आलोचना झेल रही आंग सान सू ची को एक और बड़ा झटका लगा है। फ्रांस की सरकार ने भी सम्मान दी गई मानद उपाधि को वापस लेने का फैसला किया है। पेरिस की नगर महापालिका ने म्यांमार की नेता आंगसांग सूची से उनको दी गई मानद नागरिकता वापस लेने का निर्णय लिया है। इससे पहले भी कुछ अन्य संगठन सूची से अपने सम्मान वापस लेने का एलान कर चुके हैं।

फ़्रांस-24 के अनुसार पेरिस की नगर महापालिका ने शुक्रवार को एलान किया है कि महापौर “एन हिडेल्गो” ने कहा है कि रोहिंग्या मुसलमानों पर किये गए अत्याचारों और उनके विरुद्ध की जाने वाली हिंसा के संबन्ध में निरंतर मौन रहने के कारण नोबेल पुरुस्कार से स्ममानित सूकी से अपनी मानद नागरिकता वापस लेने का फैसला किया गया है।

उन्होंने कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों पर किये गए अत्याचारों पर उनके मौन के कारण यह सम्मान उनसे वापस लिया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ म्यांमार की सेना के अत्याचारों पर चुप्पी साधने से सूची की छवि अंतरराष्ट्रीय स्तर काफी खराब हुई है और उनके कई अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान वापस लिए जा चुके हैं।

उनपर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर म्यांमार में सैन्य कार्रवाई की निंदा करने का भी दबाव था लेकिन उन्होंने इस मामले पर भी कुछ नहीं कहा।

साभार- ‘parstoday.com’

Top Stories