Tag Archives: ग़ज़ल

जो इस दुनिया मे नहीं मिलते !

जो इस दुनिया मे नहीं मिलते !

जो इस दुनिया मे नहीं मिलते वो फिर किस दुनिया मे मिलेंगे जनाब. बस यही सोच कर रब ने एक दुनिया बनाई जिस…