हैदराबाद में निजी लैब में अब नहीं होगा कोरोना परीक्षण, ये है पूरा मामला

हैदराबाद में निजी लैब में अब नहीं होगा कोरोना परीक्षण, ये है पूरा मामला

 शहर में कई निजी लैब, जिन्हें कोविड -19 परीक्षण करने की अनुमति थी, ने अस्थायी रूप से संदिग्ध रोगियों से सैंपल एकत्र करने की प्रक्रिया को रोक दिया है। ICMR ने हैदराबाद में कोविड -19 परीक्षण करने के लिए 18 निजी लैब और 10 सरकारी-संचालित लैब को अनुमति दी थी। हालांकि, कई कारण है जो निजी लैब को सैंपल के संग्रह को रोकने के लिए मजबूर करते प्रतीत हो रहे हैं।

इन लैब में से कई ने कोविड -19 डायग्नोस्टिक्स को स्वैब सैंपल के ज्यादा होने के बाद रोक दिया है, जिसके परिणामस्वरूप इनके पास पहले से ही कई सैंपल्स का बैकलॉग है जिसको क्लियर करने और उनकी रिपोर्ट देने में ही कई दिन लगेंगे।

ठीक उसी दिन से, जब निजी लैब ने स्वाब के सैंपल को स्वीकार करना शुरू किया, तभी से लोगों की भारी भीड़ थी, जो कोरोना परीक्षण करवाना चाहते थे। नतीजतन, इन लैब ने उन सैंपल को स्वीकार कर लिया, अब तक सबको रिपोर्ट नहीं दी गई है। ऐसे में बैकलॉग को क्लियर करने में ही कई दिन लगेंगे।

वर्तमान में, इन लैब ने नई नियुक्तियां लेना बंद कर दिया है और लोगों से 10 जुलाई के बाद नियुक्तियों के लिए पूछताछ करने का आग्रह कर रहे हैं।

वहीं निजी लैब में कोरोना वायरस का परीक्षण बंद हो गया है और निजी लैब के मालिकों ने 5 तारीख तक परीक्षण नहीं करने का फैसला किया है।राज्य सरकार ने ICMR के साथ मिलकर वायरस के परीक्षण के लिए राज्य में 18 लैब को मंजूरी दी है।

तीसरे सप्ताह से, निजी लैब ने ये परीक्षण शुरू किए। हालांकि, राज्य सरकार निर्धारित सीमा से अधिक सैंपल एकत्र करने के मामले में विशेष टीमें इन निजी लैब की जाँच कर रही है।

विशेष टीम ने जांच के दौरान पाया कि निजी लैब नियमों के विपरीत काम कर हैं। टीम के सदस्यों ने  कहा कि परीक्षण अकुशल लोग करते पाए गए इसीलिए परिणाम गलत प्राप्त हो रहे थे।

सरकार ने नाराजगी जताते हुए लैब के मालिकों को नोटिस जारी किए और गलती सुधारने के आदेश दिए।

निजी लैब को गलती सुधारने की सलाह

सरकारी नोटिसों को कैसे समझा जाए, इस पर निजी लैब से बहस हो रही है। इस महीने की 5 तारीख तक सुधार रिपोर्ट दर्ज किए जाने की उम्मीद है।

ICMR नियमों के अनुसार परीक्षण करने की व्यवस्था की जा रही है। यह निर्णय लिया गया कि चार दिनों तक कोई नया परीक्षण नहीं किया जाना चाहिए।

लैब मालिकों का कहना है कि वे निजी अस्पतालों के सैंपल पर विचार कर रहे हैं। इसके अलावा, निजी लैब में किए गए परीक्षणों के परिणाम ICMR वेबसाइट पर अपलोड नहीं किए गए हैं।

एक निजी लैब ने 12,000 से अधिक परीक्षण किए हैं पर परिणाम अपलोड नहीं किए गए हैं। हालांकि, राज्य के चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग ने स्पष्ट किया है कि उसने निजी लैब में परीक्षण के लिए कोई निर्देश जारी नहीं किया है।

Top Stories