Saturday , December 16 2017

सऊदी में था दूल्हा, इसलिए वकीलों की मौजूदगी में मस्जिद में हुआ ऑनलाइन निकाह

शामली: आज के इस युग में टेक्नोलॉजी का प्रचलन है, टेक्नोलॉजी को जहाँ आज के इस दौर में जिंदगी के हर पहलू से जोड़ा जा रहा है, वहीं इसका मौक़े पर सही इस्तेमाल करके बहुत सारी अनुपस्थिति को उपस्तिथि में बदल कर बहुत सारी समस्याओं का हल निकाला जा रहा है, ऐसे ही एक समस्या का हल शामली की 414 साल पुरानी मस्जिद में ऑनलाइन निकाह करा कर निकाला गया.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

दरअसल बिजनौर के किरतपुर निवासी का दूल्हा आबिद जो सऊदी अरब में जॉब करता है, शामली शहर के मोहल्ला आजाद चौक निवासी रहम इलाही कुरैशी बस चालक हैं। उनकी बेटी नाहिद अंजुम का उनसे रिश्ता हुआ था, आबिद को किसी कारणवश छुट्टी नहीं मिल पाई, उसकी शादी तय थी घर वालों ने सारा इन्तेजाम कर लिया था, ऐसे में वह क्या करता, उन्होंने एक तरकीब निकाली और मौलाना के राय से उनका निकाह ऑन्लाइन होना तय पाया.

नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक दुल्हे के घर वाले बज़ाब्ता बारात लेकर शामली पहुंचे, जहाँ शहर के बड़ा बाजार स्थित 414 साल पुरानी जामा मस्जिद में शाही इमाम मौलाना शौकीन कैरानवी ने विडियो कॉलिंग से दूल्हे को निकाह कबूल कराया है। इस दौरान निकाह में लड़की पक्ष और लड़के पक्ष की ओर से 2-2 गवाह और वकीलों ने भी हिस्सा लिया और उन्हीं की मौजूदगी में निकाह कबूल किया गया। गौरतलब है कि जिस मस्जिद में निकाह हुआ वह शाहजहां के जमाने में बनी 414 साल पुरानी शाही जामा मस्जिद है। शामली में अपने तरीके का यह पहला निकाह माना जा रहा है.

TOPPOPULARRECENT