Tuesday , April 24 2018

औवैसी के बाद चंद्रशेखर राव के थर्ड फ्रंड को ममता का समर्थन, डीएमके, सपा, शिवसेना भी आ सकते हैं साथ

असदुद्दीन ओवैसी ने मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव (KCR) के थर्ड फ्रंट बनाने के विचार का स्वागत करने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी ने भी केसीआर के इस कदम को अपना पूरा समर्थन देने की बात कही है .

आप को बता दें की KCR ने कहा था  भारतीय राजनीति में नए बदलाव की सख्त ज़रूरत है और उनके इस विचार से ममता बैनर्जी भी सहमत है. ममता बैनर्जी की केसीआर से फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा “हम आप से एक मत है, आपके साथ रहेंगें.”

रविवार को ही ओवैसी ने भी कांग्रेस और बीजेपी के विकल्प लाने को  इस वक्त की ज़रूरत बताया “हमने शुरुआत में उनका विरोध किया लेकिन उन्होंने जिस तरह से अलग तेलंगाना राज्य हासिल किया इससे साफ है कि राव में वो राजनीतिक बुद्धिमत्ता है जिससे वो सभी रीजनल पार्टियों को साथ ला सकते हैं. क्षेत्रीय पार्टियां अगली सरकार बनाने में एक अहम भूमिका निभा सकती हैं.”

इसके अलावा झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी फोन करके केसीआर के राष्ट्रीय राजनीति में अहम भूमिका निभाने के फैसले का स्वागत किया.


न्यूज़ 18 की खबर के मुताबिक महाराष्ट्र के दो सांसदों समेत कई प्रतिष्ठित लोगों ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (TSR) नेता के प्रति समर्थन जाहिर किया है.

तेलंगाना सीएम ने शनिवार को दिए अपने बय़ान में कहा था कि बीजेपी और कांग्रेस के आलावा एक नए विकल्प का जल्द ही उदय होगा जो कि भारतीय राजनीति में नए बदलाव लाएगा. उन्होंने कहा था, “मैं अभी 64 साल का हूं लेकिन यदि किसी राजनीतिक बदलाव के लिए कुछ मदद कर पाया तो ज़रूर करूंगा.”
वही दूसरी तरफ   टीएसआर की समाजवादी पार्टी, डीएमके, शिवसेना और अन्य क्षेत्रीय पार्टियों से इस संबंध में बातचीत जारी है. बता दें कि शिवसेना बीजेपी से नाराज चल रही है और उसने अगले चुनाव में बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करने का फैसला किया है.वहीं आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने कुछ दिनों पहले टीएसआर के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ने के संकेत दिए थे.

केवल राजनेता ही नहीं तेलंगाना के अलग-अलग हिस्सों से लोग केसीआर के सरकारी आवास- प्रगति भवन पहुंचकर अपना समर्थन दे रहे हैं. विभिन्न मंदिरों के पुरोहित, ब्राह्मण समुदाय के प्रतिनिधि, अलग-अलग मस्जिदों के मौलवी, सिखों-मुस्लिमों के प्रतिनिधि, ईसाई धर्म के प्रतिनिधि, बंजारे, आदिवासी और अन्य कई लोगों ने केसीआर को समर्थन दिया है. कई टीएसआर नेता, तेलंगाना के मंत्री, विधायक, सांसद और स्थानीय नेताओं ने प्रगति भवन पहुंचकर ‘देश का नेता केसीआर’ के नारे भी लगाए.

साभार- न्यूज़ 18

TOPPOPULARRECENT