तीन तलाक बिल: अब मुसलमानों को अपने प्रतिनिधियों से सवाल करना होगा

तीन तलाक बिल: अब मुसलमानों को अपने प्रतिनिधियों से सवाल करना होगा

इस बात पर किसी को चिंता नहीं थी कि तीन तलाक से संबंधित बिल संसद में मंजूर हो जायेगा, लेकिन जिस तरह से यह बिल मंजूर किया गया वह जरूर हैरान करने वाला और अफसोसनाक था। जब से सरकार ने तीन तलाक का मुद्दा छेड़ा था, मुस्लिम पर्सनल ला और उलेमाओं ने यह कहकर सरकार के रुख का विरोध किया कि वह शरियत में किसी भी तरह का दखलंदाजी बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

मगर यह सारी संगठनें और नेता अदालत का फैसला आने के बाद कुछ नहीं कर सके बल्कि उनके शब्द बदले हुए नजर आने लगे। जब सरकार ने अदालत की हिदायत के मुताबिक संसद में बिल पेश करने का फैसला किया तब भी अख़बारों में लेख लिखे गये और बैठक करके प्रस्ताव मंजूर किए गये और इस बिल के विरोध का इरादा किया गया।

मगर संसद में पेश किए गये बिल को सड़कों पर प्रदर्शन करके नहीं रोका जा सकता। इसके लिए संसद में आपकी संख्या होना जरूरी है। विपक्ष की ओर से किसी तरह की कोई उम्मीद वैसे भी नहीं थी, क्योंकि वह भारतीय जनता के साझा मुद्दे पर भी संसद में अबतक बेअसर साबित हुई है। और गुजरात चुनाव के बाद तो कोंग्रेस के एक बड़े तबके ने यह स्वीकार कर लिया है कि उन्हें अब मुस्लिम वोटरों की ज़रूरत नहीं है।

नादिर

Top Stories