टिकटॉक पर नफ़रत भरे भाषणों को हटाया गया, जानिए, पुरा मामला?

, ,

   

अमेरिका ने चीनी एप टिकटॉक ने 3,80,000 से ज्यादा वीडियो डिलीट कर दिए हैं, ये वीडियो कंपनी के भड़काऊ भाषण वाली नीति का उल्लंघन कर रही थीं।

अमर उजाला पर छपी खबर के अनुसार, गुरुवार को कंपनी ने इसके बारे में जानकारी दी। इसके अलावा कंपनी 1,300 से ज्यादा अकाउंट्स जो नफरत भरे पोस्ट करते हैं, उनपर प्रतिबंध लगा दिया है।

चीन की कंपनी बाइटडांस के पास टिकटॉक का स्वामित्व है। टिकटॉक ने एक ब्लॉग पोस्ट में जानकारी दी कि कंपनी ने नस्ल भेदी उत्पीड़न वाली पोस्ट के खिलाफ एक्शन लिया है। इसके अलावा संगठित भड़काऊ समूह के लिए जीरो टोलरेंस पॉलिसी और गुलामी जैसी हिंसक त्रासदियों वाले कंटेट को भी ब्लॉक किया है।

दरअसल, टिकटॉक युवा लोगों में सबसे ज्यादा लोकप्रिय रहने वाली एप है, ये एप डांस, होंठ मिलाना और वायरल चैलेंज के लिए जानी जाती है। लेकिन इस महीने की शुरुआत में एंटी डिफामेशन लीग ने इसकी समीक्षा की और कहा कि इस प्लैटफॉर्म को सफेद वर्चस्ववादी और यहूदियों के खिलाफ नफरत फैलाने के लिए किया जाता है।

अपने कंटेट की वजह से टिकटॉक एप स्क्रूटनी के तहत काम कर रही है। पिछले हफ्ते अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बाइटडांस को आदेश दिए थे कि वो 90 दिनों के अंदर टिकटॉक के अमेरिकी संचालन को वापस ले ले।

अमेरिकी अधिकारियों ने चिंता जताई थी कि टिकटॉक में सुरक्षित डाटा के जरिए यूजर की सूचना चीन की सरकार तक पहुंचाई जा सकती है।

हालांकि इस पर टिकटॉक का कहना है कि कंपनी ने कभी भी किसी यूजर का डाटा चीन को नहीं दिया है और अगर चीन कहेगा भी तब भी ऐसा नहीं किया जाएगा।