बावा आदम के ज़माने से अंबिया-ए-किराम इस तरह रोज़े रखा करते थे

बावा आदम के ज़माने से अंबिया-ए-किराम इस तरह रोज़े रखा करते थे
Click for full image

ऐतिहासिक और धार्मिक हवालों के मुताबिक आदम अलैहिस्सलाम की धरती पर उपस्थिति के साथ ही रोज़े का वजूद भी मिलता है। हजरत आदम अह हर महीने के तीन दिन रोज़ा रखा करते थे। अन्य टिप्पणीकारों ने उसे स्वर्ग से बाहर भेजे जाने के बाद “सयामे तौबा” क़रार दिया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इस तरह हमारे हमारे बावा आदम एक वर्ष में 36 दिनों तक रोज़ा रखते थे। ऐतिहासिक स्रोतों के मुताबिक यह हर महीने के वह तीन दिन होते थे जब चाँद अपनी पूरी सूरत को पूरा करता है। यह तीन दिन मुसलमानों में चाँद की रौशनी और सफेदी की वजह “अय्यामे बैज” के नाम से जाने जाते हैं। हिजरी के मुताबिक यह हर महीने की तेरह से 15 तारीख तक होते हैं।

हजरत नूह अलैहिस्सलाम ने भी हजरत आदम अलैहिस्सलाम के तरीके पर हर महीने उनही तीन दिन के रोज़े रखे, जिन में चाँद अपना रूप पूरा करता है। इन रोजों को अजीम तूफान से छुटकारे पर “सयामें शुक्र” का नाम दिया गया।लेकिन हजरत दाउद अलैहिस्सलाम के रोजों का तरीका विभिन्न होता था। रसूल सल्ललाहु अलैहे व सल्लम के मुताबिक वह एक दिन रोज़ा रखते और एक दिन इफ्तार किया करते, इतिहासिक स्रोतों के अनुसार हजरत सुलेमान अलैहिस्सलाम भी बावा आदम के तरीके पर रोज़ा रखा करते थे, अन्य रिवायतों में है कि इब्राहीम अलैहिस्सलाम पूरे महीने के रोज़ा रखते थे। ]

मुफस्सरीन का कहना है कि अल्लाह ने मूसा अलैहिस्सलाम को इफ्तार के बगैर लगातार तीस रोज़ा रखने का हुक्म दिया, कुरान करीम में हजरत मरयम अलैहिस्सलाम के रोज़ा रखने का भी ज़िक्र है, जबकि वह लोगों के साथ बातचीत न करने का रोज़ा था।

Top Stories