Tuesday , July 17 2018

‘तुर्की के लिए डॉन बनने का समय’: एर्दोगान ने अंटार्कटिक बेस के निर्माण की घोषणा की

तुर्की अनुसंधान दल ने पिछले दो सालों में अंटार्कटिक का दौरा किया है, तुर्की को उम्मदी है कि यह प्रयास तुर्की के लिए एक प्रमुख वैज्ञानिक शक्ति के रूप में स्थापित करेगी। राष्ट्रपति रिसेप तय्यिप एर्दोगान ने अपने आधिकारिक ट्विटर खाते में लिखा था कि तुर्की 30 देशों के करीब आ जाएगा जब यह आधिकारिक तौर पर 2019 में अपना अंटार्कटिक शोध केंद्र खोलेगा।

एर्दोगान ने लिखा है कि “2019 में हम अंटार्कटिका में एक शोध केंद्र तैयार करेंगे। इस स्टेशन के माध्यम से, हम 30 देशों के विजयी समूह में शामिल हों जाएंगे, जिनके पास पहले से ऐसी मौजूदगी है। यह वैश्विक दृष्टि का समय है। यह तुर्की की सुबह का समय है!”

तुर्की 1959 अंटार्कटिक संधि के लिए एक हस्ताक्षरकर्ता है जो राष्ट्रों को इस दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र में केवल वैज्ञानिक गतिविधि में शामिल होने के लिए बाध्य करती है। रूस, अमेरिका, चीन, जापान, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अर्जेंटीना और कई यूरोपीय देशों समेत 50 से अधिक देश संधि के लिए पार्टी हैं। लगभग दो दर्जन राज्य इस क्षेत्र में लगभग 90 स्थायी या मौसमी शोध केंद्र बनाए हैं।

पिछले हफ्ते, तुर्की मीडिया ने बताया कि तुर्की वैज्ञानिक अनुसंधान बेस दक्षिण अमेरिका की दिशा में अंटार्कटिका से बाहर निकलने वाले क्षेत्र, हॉर्सेशो द्वीप पर स्थित होगा। इस्तांबुल तकनीकी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं से परियोजना की अध्यक्षता करने और जलवायु परिवर्तन सहित समस्याओं का अध्ययन करने की उम्मीद है।

तुर्की वैज्ञानिकों ने 2017 में अंटार्कटिका की अपनी पहली यात्रा की थी और फरवरी में दो अनुवर्ती यात्राओं का आयोजन हुआ था।

TOPPOPULARRECENT