Saturday , December 16 2017

आज दो चाँद निकले हैं एक साथ!

आज से 1447 साल पहले 570 ईस्वी में यानी अब्रहा के हाथी के झुण्ड की तबाही के एक साल बाद जिहालत की अंधेरों की चीर कर एक पवित्र माँ की आगोश में एक पवित्र चाँद निकला। जिस पर अल्लाह ने अपने नुबुव्वत का सिलसिला खत्म करने का फैसला लिया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

मक्का की घाटियों में उतरने वाले उस चाँद को ज़ाहिरी तौर पे तो यतीम समझा लेकिन वास्तविकता यह थी कि बनी हाशिम का यह यतीम कयामत तक आने वाले हर यतीम के आंसू पोंछ के उसमें मोहब्बतों के चाँद सितारे भरने को आया था।

फलक पर चमकने वाला चाँद झुक झुक कर सलाम कर रहा था उस चाँद को जो सदियों से कुचली जा रही समुदाय को एक नई रौशनी से रोशन करने के लिए जमीन पर उतारा गया है।

जिंदा दफन जी जाने वाली लड़कियों के ढांचे यकीनन रसूल PUBH के मौके पर चीख चीख कर कह रहे होंगे कि काश हमारे क़त्ल से पहले जमीन पर रहमतुल लील आलिमीन का जुहूर होता और हम मिटटी के बोझ तले अपनी जिंदगी की आखिरी साँस लेने पर मजबूर न होते। हमें तो यकीन है कि आज भी गर्भ में जो लड़कियां मार दी जाती हैं वह भी या मुहम्मद PBUH या मुहम्मद PBUH की आवज़ लगाती होंगी और फरियाद करती होंगी कि ए अल्लाह के रसूल हम को भी नई जिंदगी अत कीजिये।

TOPPOPULARRECENT