Friday , July 20 2018

सरकारी आंकड़े : पिछले साल सांप्रदायिक हिंसा प्रभावित राज्यों में सबसे ऊपर रहा उत्तर प्रदेश

Kasganj: A bus set on fire by a group of people who went on a rampage after the cremation of a young man killed on Friday during the Tiranga bike rally, in Kasganj on Saturday. PTI Photo (PTI1_27_2018_000204B) *** Local Caption ***

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर ने बुधवार को लोकसभा को सूचित कर आंकड़े बताये जिसमें उत्तर प्रदेश का नाम 2017 में सर्वाधिक सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं के लिए सबसे ऊपर था। उन्होंने कहा कि साल 2017 में देश में 822 सांप्रदायिक घटनाएं हुईं, जबकि 2016 में 703 ऐसी घटनाएं हुईं और 2015 में इन घटनाओं की गिनती 751 थी।

अहीर ने एक लिखित सवाल के जवाब में बताया कि साल 2017 में इन राज्यों में सबसे ज्यादा ऐसे मामले सामने आएं जिनमें उत्तर प्रदेश में (195 घटना), कर्नाटक (100), राजस्थान (91), बिहार (85), मध्य प्रदेश (60) शामिल हैं। वहीं 2016 में, उत्तर प्रदेश (162 घटना) से सबसे ज्यादा सांप्रदायिक हिंसा के मामले सामने आए, इसके बाद कर्नाटक (101), महाराष्ट्र (68), बिहार (65), राजस्थान (63) से मामले सामने आए।

वहीं इन मामलों को लेकर अहीर ने कहा कि इन घटनाओं को धार्मिक कारकों, जमीन और संपत्ति के विवादों, लिंग संबंधी अपराधों, सोशल मीडिया से संबंधित मुद्दों और अन्य कारकों के लिए जिम्मेदार बताया गया है।

TOPPOPULARRECENT