तीन तलाक पर बिल का मकसद मुस्लिम समाज को तबाह करना है: पर्सनल लॉ बोर्ड

तीन तलाक पर बिल का मकसद मुस्लिम समाज को तबाह करना है: पर्सनल लॉ बोर्ड

नई दिल्लीः मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना खलील-उर-रहमान सज्जाद नौमानी ने तीन तलाक पर बिल पेश करने और जल्दबाजी में इसे पास कराने पर सख्त प्रतिक्रिया दी है। उनहोंने कहा है कि सरकार का यह मकसद है कि मुस्लिम मर्दों से जेलों को भरना ताकि मुस्लिम समाज तबाह हो जाए।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

मौलाना नौमानी ने न्यूज एजेंसी इएनआई से बात चित के दौरान कहा कि इतना संवेदनशील मामले पर जल्दबाजी में बिल पेश किया गया और इसी तरह औने पौने पास भी कराया गया। इससे यह पता चलता है कि सरकार मुस्लिम समुदाय के साथ क्या करना चाहता है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार का इरादा साफ होता तो वह उलेमाओं और मुस्लिम कानून के जानकार से सलाह मशवरा करती।

उनहोंने इस बारे में राज्यसभा सदस्यों से भी बात की कि वह मौजूदा बिल को पास ण होने दें, और सेलेक्ट कमिटी के भेजने पर जोर दें क्योंकि निकाह एक सिविल कांट्रेक्ट है और वह अपने मकेनिज्म के हिसाब से ही हल होगा ण कि क्रिमिनल एक्ट के तहत।

Top Stories