तुरंत इंसाफ़ के लिए ब्रिटिश काल के कानूनों में बदलाव की जरूरत है- उद्धव ठाकरे

तुरंत इंसाफ़ के लिए ब्रिटिश काल के कानूनों में बदलाव की जरूरत है- उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा है कि ब्रिटिश काल में बने कानूनों में सुधार और उनके विश्लेषण की जरूरत है। सीएम उद्धव ठाकरे ने यह बयान महाराष्ट्र और गोवा बार काउंसिल द्वारा आयोजित कानून सम्मेलन में दिया।

 

हरिभूमी पर छपी खबर के अनुसार, सीएम उद्धव ठाकरे ने कानून सम्मेलन 2020 के विषय ‘आधुनिक न्यायपालिका की ओर तेजी से बढ़ते कदम’ पर संबोधन के दौरान कहा कि लोगों को जल्द से जल्द न्याय दिलाने के लिए लोकतंत्र के सभी 4 खंभों को साथ आकर कानून में बदलावों पर बातचीत करनी चाहिए।

 

देश की आजादी के सालों बाद भी भारत में ब्रिटिश काल के कानून लागू हैं। समाज की जरूरतों और बदलती परिस्थितयों को देखते हुए ब्रिटिश काल के कानून को बदलने की जरूरत है।

 

इस मौके पर सुप्रीम कोर्ट के जज भूषण गवई, बंबई हाई कोर्ट के जज मकरंद कार्णिक और जस्टिस संदीप शिंदे के साथ ही महाराष्ट्र सरकार के परिवहन मंत्री अनिल परब भी मौजूद रहे। इस मौके पर जज भूषण गवई ने नये न्यायालय भवन की आधारशिला भी रखी।

 

Top Stories