Monday , June 25 2018

ब्रिटेनः अदालत ने खतना करवाने के शक में बच्ची के भारत आने पर लगाई रोक

Judges gavel and law books stacked behind

ब्रिटेन की एक कोर्ट ने भारतीय मूल के परिवार की बच्ची के भारत आने पर रोक लगा दी है। अदालत को शक था कि उसका खतना करवाया जा सकता है। मैनचेस्टर काउंटी और फैमिली कोर्ट के जज ने मंगलवार को कहा कि बच्ची दो साल की होने वाली है और इस बात का खतरा है कि उसकी मां धार्मिक व सांस्कृतिक दबाव के चलते उसका खतना करा सकती है।

खतना एक तरह की प्रक्रिया है जिसमें बच्ची के गुप्तांग को काट दिया जाता है और ब्रिटेन में इस प्रक्रिया पर प्रतिबन्ध है। ब्रिटेन में ‘एफजीएम प्रोटेक्शन ऑर्डर’ तीन साल पहले लागू हुआ था। इस आदेश के तहत ब्रिटेन में एफजीएम पर रोक लगा दी गई और पुलिस व स्थानीय प्राधिकारियों को इस बात के अधिकार दे दिए गए कि अगर वो किसी व्यक्ति को इस मामले में संदिग्ध पाते हैं तो वो हस्तक्षेप कर सकते हैं।

इसके अलावा बच्चों के माता-पिता को उन्हें देश के बाहर जाने पर रोक लगाई जा सकती है व उनका पासपोर्ट ज़ब्त किया जा सकता है। माना जाता है कि खतना करने से महिलाओं का कौमार्य भंग नहीं होगा और विवाह के बाद अपने पति के अलावा वो और किसी से शारीरिक संबंध नहीं बनाएंगी। औरतों का खतना करने का सबसे बड़ा कारण धार्मिक बताया जाता है।

TOPPOPULARRECENT