सऊदी अरब में चल रही गिरफ़तारियों पर संयुक्त राष्ट्र को चाहिए स्पष्टीकरण

सऊदी अरब में चल रही गिरफ़तारियों पर संयुक्त राष्ट्र को चाहिए स्पष्टीकरण
Click for full image

सऊदी अरब में दर्जनों की संख्या में राजकुमारों, पूंजीपतियों और अधिकारियों की गिरफ़तारी के बाद अब संयुक्त राष्ट्र संघ ने इस बारे में सऊदी सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है।

राजनैतिक गलियारों का मानना है कि सऊदी अरब के शाही ख़ानदान में क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान सहित अधिकतर राजकुमार और अधिकारी वित्तीय घोटालों में लिप्त हैं लेकिन  जो गिरफ़तारियां इस समय हुई हैं उनका संबंध आर्थिक भ्रष्टाचार की रोकथाम से नहीं है बल्कि इसी बहाने मुहम्मद बिन सलमान अपने राजनैतिक विरोधियों का सफ़ाया करने में जुटे हुए हैं।

लेकिन सबसे महत्वपूर्ण विषय है कि राजनैतिक बदले की यह भावना ने रक्तरंजित रूप धारण कर लिया है और राजकुमार मंसूर बिन मुक़रिन की हेलीकाप्टर दुर्घटना में मौत को इसी क्रम की एक कड़ी माना जा रहा है ।

मूंसर बिन मुक़रिन पूर्व क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन नाएफ़ के सलाहकार थे। मीडिया में यह रिपोर्टें भी आईं कि मंसूर बिन मुक़रिन सऊदी अरब से फ़रार होने की कोशिश कर रहे थे कि इसी बीच उनका हेलीकाप्टर गिर गया।

शाह फ़हद के बेटे अब्दुल अज़ीज़ बिन फ़हद की सुरक्षा बलों से झड़प में  हुई मौत भी कई सवालिया निशान खड़े किये हैं।

मुहम्मद बिन सलमान के आदेश पर सैकड़ों राजकुमारों और उद्यमियों के बैंक एकाउंट सील कर दिए गए है। अमरीका को पांच सौ अरब डालर की राशि उपलब्ध कराने का वादा, सीरिया, इराक़ और यमन के संबंध में हस्तक्षेपपूर्ण कार्यवाहियां सऊदी अरब को भारी आर्थिक संकट की ओर घसीट रही हैं और ये तमाम तरह की करवाई को विरोधियों की संपत्ति को हड़प कर इस संकट से निकलने की कोशिश बताई जा रही है

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव के प्रवक्ता फ़रहान हक़ ने न्यूयार्क में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सऊदी अरब को चाहिए कि वह आरोपों के बारे में स्पष्टीकरण दे और यह भी सुनिश्चित करे कि यह आरोप कानूनी दायरे में हैं।

 

Top Stories