इस्लाम में पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार दिए गए हैं- हामिद अंसारी

इस्लाम में पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार दिए गए हैं- हामिद अंसारी
Click for full image

देश के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश के मुसलमानों को लेकर टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि देश के मुसलमान चिंतित हैं। धार्मिक अल्पसंख्यकों में असहजता की भावना है और इस मुद्दे को संबोधित किए जाने की जरूरत है। दरअसल, ये बात उन्होंने एक मीडिया हाउस को दिए हुए इंटरव्यू में कही।

इसके अलावा उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर से जुड़े विवाद पर भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि यदि विक्टोरिया दिल्ली में कथित रूप से पीएफआई (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने को लेकर सवाल पूछा गया तो पूर्व उप राष्ट्रपति ने कहा, ‘वह पीएफआई का कार्यक्रम नहीं था। मुझे दिल्ली के एक थिंक टैंक ने निमंत्रण दिया था। बता दें कि कार्यक्रम का स्थान कालीकट था।

आगे उपराष्ट्रपति अंसारी बोले कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं थी कि दिल्ली स्थित इस थिंक टैंक का पीएफआई नाम की संस्था के साथ इंस्टिट्यूशनल अग्रीमेंट है।

स्थानीय आयोजकों को भी इस बात की जानकारी नहीं थी। कार्यक्रम में मैंने महिलाओं की दिक्कतों के बारे में बात कही और मैंने कहा कि जहां तक इस्लाम का सवाल है तो इसमें पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार औ कर्तव्य दिए गए हैं।’ उन्होंने बताया कि अगले दिन उन्हें अखबार के माध्यम से इस विवाद के बारे में पता चला।

उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि उस संगठन की स्थानीय राजनीति क्या है? और केरल को लेकर क्या मामला है? यह एक प्रक्रिया है कि यदि ऐसे कोई मामला होता है तो राज्य सरकार इस बारे में बताती है। ऐसे में राज्य सरकार ने कोई जानकारी नहीं दी।

उन्होंने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्ना की तस्वीर के विवाद पर उन्होंने कहा, ‘यह एक पुरानी परंपरा है कि स्टूडेंट यूनियन पब्लिक पर्सनैलिटी का सम्मान किया जाता है। पहली बार मोहनदास करमचंद गांधी का सम्मान किया गया था।

जिसका भी सम्मान होता है, उसकी तस्वीर वहां लगाई जाती है। पीएम मोरारजी देसाई, मदर टेरेसा, खान अब्दुल गफ्फार खान का सम्मान किया गया और इनकी तस्वीर लगाई गई। जिन्ना का भी सम्मान किया गया और उनकी तस्वीर लगाई गई।

Top Stories