Friday , July 20 2018

समान नागरिक संहिता : विधि आयोग इसके मसौदे पर काम कर रहा है

नई दिल्ली। देश का विधि आयोग समान नागरिक संहिता (यूसीसी) के मसौदे पर काम कर रहा है जो मुस्लिम विवाह और तलाक से संबंधित अधिकांश व्यक्तिगत कानूनों को स्पष्ट करेगा। इसके अध्यक्ष बलबीर सिंह सिंह चौहान ने गुरुवार को कहा कि विधि आयोग ने समान नागरिक संहिता पर आम जनता और संगठनों से अपील की है कि वो मुसलमानों में प्रचलित तीन तलाक के अलावा निकाह हलाला, बहुविवाह, मुताह और मिस्यार निकाह जैसे मामलों पर अपनी राय भेजें क्योंकि इन मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ सुनवाई करने जा रही है।

उन्होंने कहा कि हालांकि, आयोग अभी भी दत्तक और उत्तराधिकार से संबंधित मुस्लिम व्यक्तिगत कानूनों की जांच करेगा। आयोग ने अगस्त में अपने कार्यकाल के अंत तक यूसीसी पर अपनी रिपोर्ट सौंपी है जबकि एससी ने 26 मार्च को आवेदन स्वीकार कर लिया था। 1986 में शाह बानो मामले में एक कानून लाया गया था जिससे विवाह, तलाक के संबंध में अपने व्यक्तिगत कानूनों का पालन करने के लिए विभिन्न समुदायों के लिए संवैधानिक भत्ते पर बहस शुरू हो गई।

वरिष्ठ वकील कामिनी जायसवाल ने व्यक्तिगत कानूनों को महिलाओं के लिए अधिक न्यायसंगत बनाने के लिए एक कमी के रूप में आयोग के निर्णय का वर्णन किया। इस प्रक्रिया में शामिल एक अधिकारी ने कहा कि अक्टूबर 2016 में आयोग द्वारा एक प्रश्नावली के लिए “प्रतिक्रियाओं के बड़े पैमाने पर” बहुसंख्यक मुस्लिम विवाह और तलाक के मुद्दों से जुड़ा हुआ है।

बीजेपी का विरोध करने वाले अधिकांश राजनीतिक दल प्रतिक्रियाओं की मांग करने के लिए आयोग की कवायद को खारिज करते हैं, इसे सत्ताधारी पार्टी के राजनीतिक एजेंडे का हिस्सा कहते हैं।

TOPPOPULARRECENT