Wednesday , December 13 2017

उर्दू दिवस के अवसर पर जानिए दिल्ली में उर्दू का इतिहास

आज दिल्ली में उर्दू दिवस मनाया जाय रहा है इस अवसर पर आईए जानते है दिल्ली में उर्दू का इतिहास।

18 वीं शताब्दी के अंत तक, सभी सरकारी दस्तावेज फारसी में थे। लेकिन मुगल साम्राज्य के पतन के साथ, उर्दू अधिक आम हो गयी। दिल्ली के ज़ाकिर  हुसैन कॉलेज के पूर्व उर्दू प्रोफेसर अब्दुल अजीज बताते हैं कि अंग्रेजों ने 1830 के दशक में उर्दू भाषा को आधिकारिक भाषा बनाया और 1 947 तक उर्दू स्कूलों में शिक्षा का माध्यम था।

इतिहासकार और लेखक राणा सफ़ी, जिन्होंने ज़हीर देहलवी के दस्तान-ए-गदर का अनुवाद किया, का कहना है कि उर्दू स्वतंत्रता की लड़ाई की प्रतिनिधि बन गयी थी। “उर्दू बहुत क़रीब से भारत के स्वतंत्रता के संघर्ष के साथ जुड़ी हुई थी।

वे आगे बताती हैं कि प्रोग्रेसिव राइटर्स मूवमेंट (1 936) भाषा पर भारी निर्भर थी। उसी वक़्त एक जागरूकता फैली  कि उर्दू को गम-ए-जान से परे जाना चाहिए और समाज के सुधार के लिए एक एकीकृत उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जाए। ”

यह काफ़ी दिलचस्प है कि “दिल्ली को उर्दू-या-मौला कहा जाता था, और भाषा को ज़बान-ए-उर्दू- मौला – की भाषा के रूप में जाना जाता था।

विस्थापन और विभाजन के दौरान  भूमि और परिसंपत्तियों के बड़े पैमाने पर नुक़सान के साथ भाषा को भी इसकी बड़ी कीमत चुकानि पड़ी।

“अजीज बताते हैं  कि “भाषा के बीच लड़ाई 1830 के आसपास शुरू हुई। फिर, 1920 के दशक में, अखिल भारतीय मुस्लिम लीग और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की विभाजनकारी सेना आ गई। ताबूत में अंतिम कील तब लगी थी जब पाकिस्तान ने उर्दू को अपनी राष्ट्रीय भाषा घोषित कर दिया था। इसने भारत में लोगों को उर्दू के साथ पूरी तरह से दूर करने के लिए प्रेरित किया यह सांप्रदायिक राजनीति का शिकार बन गया, “अजीज बताते हैं

शहर में यहां तक ​​कि कॉलेजों में इंडो-आर्यन भाषाओं के लिए प्रमुख केंद्र थे, लेकिन यह 1947 के बाद बदल गया। “विभाजन से पहले, सेंट स्टीफन, हिंदू और श्रीराम कॉमर्स ऑफ कॉमर्स, उर्दू, अरबी, फारसी और संस्कृत का सबसे बड़ा केंद्र थे।

तीन किताब लिखने वाले अज़ीज़ बताते हैं कि अब यह विभाग केवल रजिस्टरों में ही रहते हैं यहां तक ​​कि अगर छात्र इन पाठ्यक्रमों के लिए चुनते हैं, तो कॉलेज को बाहर से अध्यापकों का इंतेजाम करना पड़ता है क्यूँकि अब कॉलेज में अध्यापक नहीं है।

“जश्न-ए-रेख़ता और जश्न ए आदब जैसे त्योहार आज  भाषा को पुनर्जीवित करने में मदद कर रहे हैं। लोग इसे बोल रहे हैं, और देवनागरी और रोमन लिपियों में भी इसे पढ़ रहे हैं।

सफ़ी बताते है कि भाषा की उत्पत्ति का पता लगाने की खोज हमें पुरानी दिल्ली, उर्दू बाज़ार के अंदर ही ले आती है। पहले यहाँ पर प्रकाशकों का बड़ा केंद्र हु करता था लेकिन अब कुछ हाई बचे हैं।

1920 के दशक में स्थापित एक प्रकाशन इकाई मकतबा जामिया में, एके ज़ैदी उर्दू शीर्षक के साथ एक पुस्तक तख्ता के बगल में बैठते है। वह प्रकाशन घर में प्रशासनिक कार्य का ख्याल रखते  है, और कहते हैं कि हाल ही के वर्षों में उर्दू भाषा की किताबों की मांग बढ़ी है। “गैर-मुस्लिम पाठक आज कई युवा, लेखक और कवियों जैसे मुन्नवर राणा, फैज अहमद फैज, मखदूम, मजाज लखनवी और इस्मत चुघताई की किताबों के बारे में पूछ रहे हैं। वे उर्दू लिपि सीख रहे हैं ताकि वे बेहतर पढ़ सकें। वे मानते हैं कि  संस्कृति की तरह, भाषा किसी एक की नहीं हो सकती है। “ज़ुबान कसी की जाग़ीर  नहीं होती; उर्दू तो पैदा ही हिंदुस्तान में हुई थी। वे कहते हैं कि मकतबा जामिया की अलमारियां उर्दू खिताब से भारी हुई हैं।

इलाक़े  में सबसे पुराना प्रकाशन गृह में से एक पर चलते हुए, कुतुब खालना अंजुमन-ए-ताराक़की-ई-उर्दू जो कि 1939 में स्थापित हुआ था हमें पता चलता है कि कुल 64 में से  केवल इस तरह की 7 ऐसी दुकानें इस क्षेत्र में हैं-। निजमुद्दीन का कहना है कि कारोबारी समझ में प्राप्ति हो रही है और जब लोग मुनाफे और नुकसान के मामले में सोचने लगे तो उन्होंने उन्हें बेहतर तरीके से आगे बढ़ना शुरू कर दिया। उनका कहना है एक समय था जब मुंशी प्रेमचंद हमारी दुकान पर आए थे लेकिन अब वक़्त बदल गया।

 

 

 

TOPPOPULARRECENT