सबसे अधिक परमिट शुल्क का भुगतान करके अमेरिकी नागरिक ने पाकिस्तानी राष्ट्रीय पशु का शिकार किया

सबसे अधिक परमिट शुल्क का भुगतान करके अमेरिकी नागरिक ने पाकिस्तानी राष्ट्रीय पशु का शिकार किया

बलुचिस्तान : पाकिस्तान का राष्ट्रीय पशु, मार्खोर, एक हिमालयी बकरा है, और इसका शिकार केवल ट्रॉफी शिकार कार्यक्रमों (trophy hunting programmes) के तहत सरकार द्वारा किया जाता है। ब्रायन किंसल हरलान (Bryan Kinsel Harlan), मार्खोर का शिकार करने वाले तीसरे अमेरिकी नागरिक बन गए हैं. आपको बता दें कि हिमालयन बकरी मार्खोर अपने पेंच के आकार के सींगों के लिए जानी जाती है। डॉन न्यूज के अनुसार ट्रॉफी के शिकार के लिए सबसे ज्यादा फीस देने का रिकॉर्ड भी ब्रायन किंसल हरलान के पास है, क्योंकि उसने पिछले साल पाकिस्तान सरकार द्वारा सिर्फ चार में से एक परमिट के लिए 110,000 डॉलर का भुगतान किया था। गिलगित के सासी गांव में एक शिकार सत्र के दौरान, ब्रायन ने 41 इंच के सींग के साथ एक मार्खोर बकरे का सफलतापूर्वक शिकार किया था।

एक अमेरिकी शिकारी ब्रायन किंसल हरलान ने गिलगित बाल्टिस्तान के सासी-हार्मोश सामुदायिक संरक्षण क्षेत्र में 41 इंच सिंग के साथ मार्खोर का सफलतापूर्वक शिकार किया, जिसने यूएस 110,000 डॉलर को परमिट शुल्क के रूप में भुगतान किया।
pic.twitter.com/pkr52L2uPl
– aazizwahidi (@aazizwahidi) 5 February, 2019

इससे पहले, दो अमेरिकी नागरिकों, डायना क्रिस्टोफर एंथोनी और जॉन एमिस्टोसो ने परमिट शुल्क में क्रमशः 105,000 और 100,000 डॉलर का भुगतान करके गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में मार्खर बकरे का शिकार किया था। 2018-19 ट्रॉफी शिकार सत्र के तहत इस क्षेत्र में लगभग 50 मार्करों का शिकार किया गया है। पाकिस्तान सरकार के ट्रॉफी शिकार कार्यक्रम के बारे में सबसे अनूठा पहलुओं में से एक यह है कि इसने गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में मार्खोर की आबादी को सफलतापूर्वक बढ़ाया है।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, ट्रॉफी के शिकार कार्यक्रम ने क्षेत्र में समृद्धि को बढ़ावा दिया है, क्योंकि 80 प्रतिशत धनराशि परमिट फीस के माध्यम से जुटाई जाती है, जबकि शेष राशि सरकारी खजाने में जमा होती है।

Top Stories