Sunday , April 22 2018

अमेरिकी संग्रहालय ने रोहिंग्या के उत्पीड़न को रोकने विफल रहने पर सू की से मानवाधिकार सम्मान वापस लिया

वॉशिंगटन। अमेरिका के हॉलोकास्ट स्मारक संग्रहालय ने म्यांमार की नेता आंग सान सू की पर रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ चल रहे जातीय सफाये को रोकने के लिए बहुत कम प्रयास करने का आरोप लगाते हुए उन्हें दिया गया प्रतिष्ठित मानवाधिकार सम्मान वापस ले लिया है।

देश की सैन्य तानाशाही के खिलाफ अपने लंबे संघर्ष के कारण 1991 में नोबेल शांति पुरस्कार पाने वाली सू की को साहसी नेतृत्व और निरंकुशता का विरोध करने के दौरान व्यक्तिगत बलिदान देने, बर्मा (म्यांमार) के लोगों की आजादी तथा सम्मान के लिए लड़ने के लिए 6 साल पहले हॉलोकास्ट म्यूजियम एली विसेल पुरस्कार दिया गया था।

लेकिन संग्रहालय का कहना है कि म्यांमार की सेना द्वारा रोहिंग्या समुदाय के लोगों के खिलाफ नरसंहार के बढ़ते साक्ष्यों के कारण वह सू की को दिया सम्मान वापस ले रहा है।

संग्रहालय ने सू की को भेजे पत्र में कहा है कि सभी की भांति उन्होंने भी रोहिंग्या मामले में सू की से कार्रवाई की आशा की थी, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। यहां तक कि उनके राजनीतिक दल ने संयुक्त राष्ट्र के जांचकर्ताओं के साथ सहयोग करने से भी मना कर दिया।

TOPPOPULARRECENT