दिल्ली मोब लिंचिंग- सुपर्द-ए-खाक हुआ अज़ीम, 5 लाख मदद की घोषणा, सीसीटीवी फुटेज सामने आई

दिल्ली मोब लिंचिंग- सुपर्द-ए-खाक हुआ अज़ीम, 5 लाख मदद की घोषणा, सीसीटीवी फुटेज सामने आई
Click for full image

मालवीय नगर स्थित मदरसे में हुए झगड़े में हुई आजिम की मौत के बाद शुक्रवार को आप विधायक अमानतुल्लाह और मालवीय नगर विधायक सोमनाथ भारती ने मृतक के परिजनों से मुलाकात की। घटना की निंदा करते हुए दोनों ही विधायकों ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कराने और दिल्ली सरकार की ओर से पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपये आर्थिक मदद करने की जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि घटना में दोषी चारों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही दिल्ली पुलिस के डीसीपी ने उनसे ठोस कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। अमानतुल्लाह खान ने कहा कि जिस जमीन को लेकर विवाद शुरू हुआ था वह पूरी भूमि बोर्ड की है। वहां की निगरानी की जिम्मेदारी बोर्ड के पास ही है। आसपास पड़ी खाली जमीन को जल्द ही बाउंड्री के दायरे में लाया जाएगा। इसे लेकर बोर्ड मदद भी करेगा।

दरअसल गुरुवार को सुबह एक मैदान में खेलने को लेकर कुछ बच्चों की लड़ाई हुई। इसी झगड़े में मुहम्मद आजिम नाम के एक बच्चे की हत्या कर दी गई। आजिम का परिवार हरियाणा के नूंह जिले के रीछड़ गांव का रहने वाला है। 2017 में उन्होंने आजिम का दाखिला इस मदरसे में कराया था। हत्यारोपी चारों लड़के 12 साल के आस-पास हैं। इन्हें जुवेनाइल होम भेज दिया गया है।

वारदात की सीसीटीवी फुटेज सामने आई

मालवीय नगर में मोहम्मद आजिम (8) की पीट-पीटकर हत्या मामले को शुक्रवार को कुछ लोगों ने राजनीतिक रंग देने की कोशिश की। आम आदमी पार्टी के कई विधायक व नेता पीड़ित परिवार से मिलने मदरसे पहुंचे और पीड़ित परिवार को सहानुभूति दी। वहीं मालवीय नगर थाना पुलिस ने शुक्रवार को शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया। मृतक के सिर पर चोट के निशान नहीं पाए गए हैं। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। वारदात की सीसीटीवी फुटेज सामने आई है। ये वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रही है।

दक्षिण जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार जिस जगह पर दारुल उलूम फरीदिया नामक मदरसा है, वहां पास में एक गली है। पास में वाल्मीकि कैंप पर ग्राउंड है। मदरसे के लोग चाहते हैं कि गली बंद हो जाए, ताकि बाहरी लोगों का आना-जाना बंद हो जाए। अगर ये गली बंद हो जाएगी, तो कैंप के लोग कैसे अंदर-बाहर जाएंगे। दिन भर इसी गली को लेकर राजनीति गर्म रही। ग्राउंड में मदरसे के बच्चे व कैंप के बच्चे खेलते हैं।

गुरुवार सुबह ग्राउंड में मदरसे व कैंप के बच्चे खेल रहे थे। इस दौरान ही बच्चों में आपस में झगड़ा हो गया। दोनों तरफ से पांच से छह बच्चे थे। कैंप के बच्चे ने मो. आजिम की पिटाई कर दी जिसके बाद वह नीचे गिर गया। उसे पास में स्थित मदनमोहन मालवीय अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर चार बच्चों को गिरफ्तार कर लिया है। इनमें दो की उम्र 11 व दो की उम्र 12 वर्ष है। रिपोर्ट तैयार कर उन्हें जुवेनाइल बोर्ड में शुक्रवार को पेश किया गया। बोर्ड ने उन्हें बाल सुधार गृह भेज दिया।

आजिम की हत्या बड़ी साजिश-परिजन

नूंह जिले के रीछड़ गांव निवासी आजिम की दिल्ली में पीट-पीट कर हत्या किए जाने से इलाके में भारी रोष है। अजीम का शव दिल्ली से रात करीब 9 बजे घर पहुंचा। इसके बाद गांव के ही कब्रिस्तान में सुपर्द-ए-खाक कर दिया गया।

जिला पार्षद मुमताज खान का आरोप है कि कुछ असामाजिक तत्व मदरसे के अंदर हंगामा करने आने वाले बाहरी लड़कों के साथ मदरसा के संचालक और आमिल से मारपीट करते थे, ताकि यहां के असामाजिक तत्वों द्वारा मदरसे को टारगेट किया जा सके। उनका कहना है कि उनके गांव और आसपास के गावों से बेगमपुर स्थित दारूल उलूम फरीदिया मरदरसे में सैकडों बच्चे पढ़ते हैं। आजिम के दो बडे़ भाई भी इसी मदरसे में इस्लामी शिक्षा ग्रहण कर कुरान शरीफ हिफ्ज कर रहे हैं।

ग्रामीण आमीन, मुबीन, इरशाद ठेकेदार, मजीद और जमील का कहना है कि सांप्रदायिक झगडे़ कराने की नीयत से मदरसों में घुसकर बच्चों को मारा जा रहा है। आजिम की हत्या किसी बड़ी साजिश के चलते की गई है।  इस घटना की गहराई से जांच होनी चाहिए। आजिम की मां सहजी का कहना है कि उसके बेटे को साजिश के तहत मारा गया है। उसने रोते हुए कहा कि चाहे  कुछ भी हो जाए वह अपने सभी बेटों को इस्लामी तालीम दिलाने के लिए मदरसे  में पढ़ने से नहीं रोकेगी।

Top Stories