कठुआ- फॉरेंसिक रिपोर्ट में कई और चौकाने वाले खुलासे, खून के निशान पीड़िता के डीएनए से मेल खाते हैं

कठुआ- फॉरेंसिक रिपोर्ट  में कई और चौकाने वाले खुलासे, खून के निशान पीड़िता के डीएनए से मेल खाते हैं
Click for full image

कठुआ गैंगरेप मामले में फॉरेंसिक रिपोर्ट आई है। जिसमें चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। रिपोर्ट से पता चलता है कि हत्या के बाद बच्ची के कपड़ों को धोया गया, ताकि उस पर खून का धब्बा न रह जाए। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कठुआ में 10 जनवरी को आठ साल की बच्ची किडनैप की गई। फिर 17 जनवरी को उसका शव मिला। चार्जशीट में बताया गया कि बच्ची के साथ आठ लोगों ने गैंगरेप किया।

  1. अगर फॉरेंसिक रिपोर्ट की मानें तो इस दर्दनाक वारदात के आरोपियों ने घटना के बाद सबूतों को मिटाने की हर संभव कोशिश की थी. आरोपियों ने पीड़ित बच्ची के सलवार फ्रॉक को धो डाला था, ताकि उस पर कोई खून का धब्बा न रह जाए.
  2. एसआईटी ने बच्ची के कपड़ों को पहले फोरेंसिक जांच के लिए श्रीनगर फॉरेंसिक लैब भेजा था लेकिन वो कोई राय नहीं दे पाए क्योंकि कपड़ों को धो कर बिल्कुल साफ कर दिया गया था.
  3. इसके बाद ही जम्मू कश्मीर के डीजीपी ने डीएनए सैंपलिंग के लिए 27 फरवरी को दिल्ली गृह मंत्रालय के सचिव को चिट्ठी लिखी. इसके बाद ही कपड़े समते अन्य सबूतों को दिल्ली की फोरेंसिक लैब भेजा गया. जहां इसकी जांच शुरू की गई.
  4. 1 मार्च को पीड़िता के जननांगों से मिले वजाइनल स्मियर, उसके बाल और पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया और आरोपी शुभम सांगरा के खून के नमूने को सात अलग-अलग पैकेटों में बंद करके दिल्ली भेजा गया था.
  5. इसके बाद 14 दिनों के बाद मृतक बच्ची के विसरा सैंपल और एक और आरोपी परवेश के खून के नमूने भेजे गए. इसके बाद 16 मार्च को बच्ची के सलवार फ्रॉक, मौका ए वारदात के आसपास की कुछ मिट्टी और बच्ची के खून से सनी हुई मिट्टी भेजी गई. उसमे बाद 21 मार्च को आरोपी विशाल जंगोत्रा के खून के नमूने दिल्ली भेजे गए, दिल्ली की फॉरेंसिक लैब ने तीन अप्रैल को अपनी रिपोर्ट सौंप दी.
  6. चार्जशीट में इस रिपोर्ट का ज़िक्र करते हुए कहा गया कि दिल्ली फॉरेंसिक लैब के पास ज़्यादा अच्छी तकनीक है, इसलिए मृतक बच्ची के सलवार फ्रॉक के धब्बों की पहचान कर ली गई. जांच में पता चल गया कि ये खून के निशान पीड़िता के डीएनए से मेल खाते हैं, वैजाइनल स्मियर में उसका खून भी पाया गया.
  7. पुलिस की जांच में देवीस्थान से खून का धब्बा लगा हुआ एक लकड़ी का डंडा और कुछ बाल मिले मृत बच्ची की डीएनए प्रोफाइलिंग से पता चला कि सांझीराम ने उसे बंधक बनाकर रखा था.
  8. फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट से ये भी पता चला कि शव के पास से मिले बाल के डीएनए आरोपी शुभम सांगरा के डीएनए प्रोफाइल से मेल खाता है. गौरतलब है कि मेडिकल एक्सपर्ट्स की रिपोर्ट के मुतबिक बच्ची की हत्या के पहले उसका बलात्कार हुआ था.

 

Top Stories