Wednesday , July 18 2018

वरुण गाँधी जल्द छोड़ सकते हैं भाजपा का दामन

नई दिल्ली: आगामी लोकसभा चुनाव अब बस कुछ ही वक़्त बाकी है। चुनाव से पहले भाजपा आंतरिक समस्याओ में घिरती नज़र आ रही है। भाजपा की ये वो समस्याए है जिसमे पार्टी के अपने ही उनके खिलाफ सुर अलापते नज़र आ रहे है। बता दें कि इन दिनों भाजपा सांसद वरुण गांधी काफी चर्चा में है, जिसका भाजपा छोड़ गाँधी परिवार में शामिल होने की बात चल रही है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इन दिनों भाजपा सांसद वरुण गांधी अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे के दौरान योगी सरकार पर चुटकी लेते नज़र आये। उन्होंने सीधे तौर पर कोई निशाना तो नही साधा, लेकिन इशारों इशारों में अपनी भावनाओं को ज़ाहिर कर ही दी। ऐसे में कयास लगाई जा रही है कि वरुण गांधी आगामी लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा को छोड़ सकते हैं।

अपने तीन दिन के दौरे में वरुण गांधी ने बीच बीच में केन्द्रीय सरकार को लेकर कई तंज कसे। उनके निशाने में योगी और मोदी दोनों ही थे। यहाँ दर्जनों जनसभाओ को सम्बोधित करते हुए उन्होंने योगी सरकार पर तंज कसा और कहा कि हमें बाबाओं को अहमियत देनी चाहिए, पता नहीं किस्मत कब खुल जाए।

बता दें कि बाबाओ से उनका अर्थ साफ़ योगी आदित्यनाथ और उनके कामकाज को लेकर ही था। पार्टी में होते हुए भी वरुण गाँधी कभी भी पार्टी की झूठी वकालत नही किया करते और न ही गलत के बचाव में सामने आते।
.
जबकि इससे पहले भी भाजपा सांसद ने जयसिंहपुर विधानसभा के सेमरी बाजार की जनसभा में योगी आदित्यनाथ पर कटाक्ष करते कहा कि मुझे तो बाबा होना चाहिए था। इतना ही नही हाल ही में जब यूपी उपचुनावों में भाजपा गोरखपुर सीट हार गयी तब से ही योगी आदित्यनाथ के कामकाज को लेकर सवाल खड़े होने लग गये थे।

वरुण गांधी अपनी सीट का हवाला देते हुए कहते है की सुल्तानपुर मेरी कर्मभूमि ही नहीं बल्कि ऊंची राजनीति की प्रयोगशाला है। इसमें जात-पांत, ऊंच-नीच व धर्म संप्रदाय का कोई स्थान नहीं है। उन्होंने कहा कि राजनीति में बुनियादी मुद्दों पर बात होनी चाहिए। उनहोंने कहा कि वर्त्तमान समय में राजनीति में दिखावा आ गया है। पहले लोग शिक्षा की पूजा करते थे। आज धन-बल के पूजक बनते जा रहे है. हम निराशाजनक नहीं बल्कि आशावादी राजनीति के हिमायती हैं।

रही बात वरुण के कांग्रेस में शामिल होने के तो ऐसा माना जाता है की बहन प्रियंका गाँधी से वरुण के रिश्ते आज भी मधुर है और सार्वजनिक तौर पे राहुल गांधी या प्रियंका गाँधी उन पर कोई टिप्पड़ी नही करते।

TOPPOPULARRECENT