Tuesday , December 12 2017

भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है, लेकिन कुछ लोग भटककर हिंसा के रास्ते पर चले जाते हैं: हामिद अंसारी

देश में बढ़ रही असहिष्णुता के बीच उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा है कि भारत में कुछ सामाजिक कठिनाइयां हैं। इस वजह से कुछ लोग भटककर हिंसा के रास्ते पर चल पड़ते हैं लेकिन अधिकतर भारतीय धर्मनिरपेक्षता में विश्वास रखते हैं।

आर्मेनिया के दौरे पर आए हामिद अंसारी ने येरेवान यूनिवर्सिटी के छात्रों और टीचर्स को संबोधित करते हुए यह बात कही।

एक छात्र के सवाल पर कि, आप कहते हैं कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है लेकिन वहां हिंसा की घटनाएं सामने आती रहती हैं।

जवाब में हामिद अंसारी ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता भारत के संविधान का बुनियादी चरित्र है और भारत के लोग धर्मनिरपेक्षता के प्रति प्रतिबद्ध हैं।

हामिद अंसारी ने अपने संबोधन के दौरान मौलाना अबुल कलाम आजाद के मानवतावादी विचारों का भी ज़िक्र किया।

उन्होंने कहा कि आज के युवा बेहतर दुनिया बनाने की चाहत रखते हैं। ऐसी दुनिया जहाँ बिना किसी ख़तरे के इंसान शांतिपूर्वक अच्छी और खुशहाल ज़िन्दगी गुज़ार सके।

इस दौरान येरेवान यूनिवर्सिटी की तरफ से हामिद अंसारी को डाक्ट्रेट की मानद उपाधि प्रदान की गई।

 

TOPPOPULARRECENT