Saturday , September 22 2018

VIDEO: ध्रुव राठी द्वारा पीएनबी घोटाले और नीरव मोदी की वास्तविकता!

नई दिल्ली: इलाहाबाद बैंक के पास करीब 11 हजार 400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के केंद्र में अरबपति हीरे के व्यापारी नीरव मोदी को पंजाब नेशनल बैंक द्वारा जारी किए गए लैटर ऑफ़ अंडरटेकिंग (एलओयू) के जरिए लगभग 2,000 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है।

46 वर्षीय मोदी ने पीएनबी को 280 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के लिए कथित रूप से धोखा देने के लिए 31 जनवरी को सीबीआई द्वारा, उनकी पत्नी, भाई और चोकसी के साथ मुकदमा दर्ज किया था।

जबकि मोदी अपने नाम के तहत आभूषण ब्रांड श्रृंखला मेहुल चॉक्सी चलाते हैं, गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर हैं। ईडी ने पीएनबी की शिकायत के आधार पर सीबीआई की एफआईआर पर उनके और अन्य लोगों के खिलाफ एक पीएमएलए मामला दर्ज किया था।

सीबीआई ने कहा, आभूषण डिजाइनर देश का नागरिक है, लेकिन उनके भाई निशाल और पत्नी अमी भारतीय नागरिक नहीं हैं। वे सभी 1 जनवरी से 6 जनवरी के बीच भारत छोड़ गए।

सूत्रों ने बताया कि इलाहाबाद बैंक की हांगकांग की शाखा से पीएनबी के नॉस्ट्रो अकाउंट में पैसे का श्रेय दिया गया है। बैंक पहले ही दावों के लिए दायर कर चुका है।

अन्य बैंक जो पीएनबी द्वारा जारी किए गए ऋण पर आधारित ऋण देने में शामिल थे वह एक्सिस बैंक, यूनियन बैंक और एसबीआई हैं।

TOPPOPULARRECENT