Tuesday , September 25 2018

VIDEO : वैज्ञानिकों को पहली बार प्रयोगशाला में मानव अंडाणु विकसित करने में मिली सफलता

वैज्ञानिकों ने पहली बार एक प्रयोगशाला में मानव अंडाणु को विकसित करने में सफलता प्राप्त की है, उन्होंने ओवरी (गर्भाशय) के टिश्यू की मदद से बनाए अंडाणुओं को प्रारंभिक अवस्था से लेकर पूर्ण अवस्था तक विकसित किया। अभी तक यह सिर्फ चूहों में ही संभव हो सका था।

शुक्रवार को मोलेक्युलर ह्यूमन रिप्रोडक्शन जर्नल में प्रकाशित इस शोध में ब्रिटेन और अमेरिका के वैज्ञानिकों ने कहा कि यह एक दिन रीजेनरेशन चिकित्सा उपचार और बांझपन उपचार विकसित करने में मदद कर सकता है। इससे बांझपन की समस्या को दूर करने के लिए नए उपचार के विकास का रास्ता खुल सकता है। इससे पहले वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला में चूहों के अंडाणुओं को पूरी तरह विकसित करने में सफलता पाई था।

नई कामयाबी एडिनबर्ग के दो शोध अस्पतालों और न्यूयॉर्क के सेंटर फॉर ह्यूमन रीप्रोडक्शन के वैज्ञानिकों ने पाई है। उन्होंने पहली बार मानव शरीर से बाहर प्रयोगशाला में प्रारंभ से पूर्ण अवस्था तक मानव अंडाणु विकसित किए।

इस शोध की सफलता के बाद कई विशेषज्ञों ने कहा कि इससे न सिर्फ मानव अंडाणु के विकास को समझने में मदद मिल सकती है बल्कि यह उन महिलाओं के लिए भी उम्मीद की नई किरण हो सकती है जिन्हें कीमोथैरेपी या रेडियोथैरेपी के चलते मां बनने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। हालांकि कुछ विशेषज्ञों की राय है कि अभी इस प्रक्रिया को इनसानों के लिए सुरक्षित करार देने की दिशा में बहुत काम बाकी है।

लैब में पूर्ण मानव अंडाणु के विकास से बांझपन दूर करने के मौजूदा उपचार का विस्तार हो सकता है। अब हम उन अनुकूल स्थितियों पर काम कर रहे हैं जिससे अंडाणु के विकास में मदद मिलती है।” एवलिन टेलफर, शोधकर्ता

विशेषज्ञों ने इस काम में सीधे तौर पर शामिल नहीं होने के कारण इसे महत्वपूर्ण बताया, लेकिन यह भी चेतावनी दी थी कि प्रयोग करने योग्य मानव अंडे से पहले शुक्राणु के साथ निषेचन के लिए सुरक्षित रूप से तैयार किया जा सकता है। लंदन में इंपीरियल कॉलेज के एंडोक्रिनोलॉजी के एक वरिष्ठ नैदानिक ​​व्याख्याता अली अबबर ने कहा, “शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक यह भविष्य में संभवतः संभव होगा।”

“लेकिन तकनीक प्रारंभिक अवस्था में बनी हुई है, और यह सुनिश्चित करने के लिए बहुत अधिक काम की ज़रूरत है कि यह तकनीक सुरक्षित और अनुकूलित है इससे पहले कि हम यह पता लगा लें कि इन अंडे प्रक्रिया के दौरान सामान्य रहते हैं, और भ्रूण के रूप में स्वस्थ पैदा हो सकती है। ”

डैरेन ग्रिफिन, यूके में केंट यूनिवर्सिटी के जेनेटिक्स प्रोफेसर, ने कहा कि यह काम “एक शानदार तकनीकी उपलब्धि है।” उन्होंने कहा, भविष्य में कैंसर के रोगियों को उनकी प्रजनन क्षमता को बनाए रखने में मदद मिलेगी, जबकि किमोथेरेपी उपचार के दौरान, प्रजनन उपचार में सुधार होगा, और मानव जीवन के शुरुआती चरणों के जीव विज्ञान की वैज्ञानिक समझ में गहरा होगा।

TOPPOPULARRECENT