Monday , September 24 2018

पुरी दुनिया का लोकतंत्र इस वक्त बड़े उलटफेर से गुजर रहा है- अरुण पुरी

कॉन्क्लेव का आगाज इंडिया टुडे ग्रुप के चेयरमैन और एडिटर इन चीफ अरुण पुरी के स्वागत भाषण के साथ हुआ. इंडिया टुडे समूह के चेयरमैन अरुण पुरी ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव की शुरुआत करते हुए कहा कि आप सभी का इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2018 में स्वागत है. देश के इस सबसे बड़े प्लेटफॉर्म पर कई दिग्गज राजनेता, बिजनेसमैन के अलावा अपने-अपने क्षेत्रों के बड़े सितारे अपने विचारों को साझा करेंगे.

 

अरुण पुरी ने कहा कि पूरी दुनिया इस वक्त बड़े उलटफेर के दौर से गुजर रही है. दुनियाभर में नए तरीके का नेतृत्व देखने को मिल रहा है. कनाडा से लेकर ग्रीस तक और मेक्सिको से लेकर भूटान तक नए विचार दुनिया के सामने रखे जा रहे हैं.

 

उन्होंने कहा कि दि ग्रेट चर्न में 5 अहम विरोधाभास देखने को मिल रहे हैं. इस कनेक्टेड दुनिया में नेशनलिज्म की वापसी देखने को मिल रही है, लोकतंत्र के सामने खतरा दिखाई दे रहा है, दुनिया के कई क्षेत्रों में तानाशाही प्रवृत्ति दिखाई दे रही है. उन्होंने अपने उद्घाटन संबोधन में कहा कि लोकतंत्र आजादी का पालना है, लेकिन इस आजादी को रुढ़िवादी और बहुसंख्यकों के कारण कमजोर किया जा रहा है. अरुण पुरी ने देशभर में मूर्तियों को तोड़े जाने की निंदा की और उन्होंने कहा कि मूर्तियां इसलिए तोड़ी जा रही हैं क्योंकि वह दूसरी विचारधारा को मानने वालों की हैं. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से मीडिया को इंटरव्यू देने से परहेज कर रहीं कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के 17वें संस्करण के मंच पर देश और दुनिया से रूबरू हो रही हैं.

19 साल तक कांग्रेस का नेतृत्व करने वाली सोनिया गांधी हाल ही में राहुल गांधी को पार्टी की कमान सौंपने के बाद पहली बार किसी बड़े मंच पर शिरकत करेंगी. हालांकि यह कोई पहला मौका नहीं है जब सोनिया गांधी इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में शिरकत करने जा रही हैं. इससे पहले सोनिया ने 2004 में दिल्ली में आयोजित कॉन्क्लेव में शिरकत की थी. बाद में उनके नेतृत्व में कांग्रेस और यूपीए ने लगातार दो बार लोकसभा चुनावों में जीत हासिल कर केंद्र में सरकार बनाई.

TOPPOPULARRECENT