Monday , December 18 2017

VIDEO: सशस्त्र पुलिस ने 15 हाथियों के जरिए ‘असम’ वन क्षेत्र में रह रहे मुस्लिम और आदिवासी को बाहर निकाला

गुवाहाटी: असम में एक असामान्य कदम से असम के वन विभाग के अधिकारियों ने गुवाहाटी के अमचंग वन्यजीव अभ्यारण्य के अंदर एक निष्कासन अभियान के दौरान वहां राह रहे मुस्लिमों और आदिवासियों  को हटाने के लिए 15 हाथियों का इस्तेमाल किया।
रिपोर्टों के मुताबिक अधिकारियों का दावा है कि लोग अवैध रूप से संरक्षित वन क्षेत्र में रह रहे थे। गुहाटी उच्च न्यायालय की दिशा निर्देश में एक  निष्कासन अभियान चलाया गया ।

जारी किए गए निष्कासन आदेश के साथ सशस्त्र, पुलिस और नागरिक प्रशासन ने तीन स्थान नव्यज्योति और कंकन नगर इलाके और यूसुफ नगर में प्रवेश किया और स्थानीय लोगों के 1,000 बांस और टिन के झोपडि़यों और संपत्तियों को ध्वस्त कर दिया।

15 से अधिक हाथियों, कुछ बुलडोज़र्स, 1,500 पुलिस कर्मियों, 300 विध्वंस मजदूरों और 10 जेसीबी भी निष्कासन अभियान में लगे हुए हैं।
लगभग 408 घरों को ध्वस्त कर दिया गया है और यह अभियान मंगलवार को भी जारी रहेगा। नव्यज्योति नगर के निवासियों ने तर्क दिया कि उन्होंने कानूनी रूप से जमीन खरीदी है और निष्कासन अभियान का विरोध करने की कोशिश की है।
पुलिस ने भीड़ को  तितर बितर करने के लिए  लाठीचार्ज, आंसू गैस और रबर की गोलियां चलाईं, जिसमें तीन महिलाओं सहित कई लोग घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें निष्कासन अभियान के बारे में पूर्व सूचना नहीं मिली थी।
इस बीच, सैकड़ों लोगों और विभिन्न सामाजिक संगठनों ने सड़कों पर उतर कर विरोध जताया ताकि इन लोगों के खिलाफ निष्कासन अभियान को रोक दिया जा सके।

द मशिंग संगठन, ताकम मशिंग पोरिन केबांग (टीएमपीके) ने इस बेदखली ड्राइव का विरोध करने के लिए 12 घंटे की सुबह-शाम असम बंद करने के लिए बुलाया।

 
माजुली, बिहपुरीया, जागुण, शिवसागर, लखीमपुर, गोहपुर और अन्य कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन किया गया जहां सड़कों पर निकलने और शटडाउन लागू करने के कारण सैकड़ों आंदोलनकारियों ने सड़कों पर नहीं निकलने की निंदा की।

TOPPOPULARRECENT