Friday , April 20 2018

VIDEO: ‘यरुशल’, दुनिया के खुबसूरत शहरों में एक और इसका इतिहास!

जेरूशलम या यरुशलम बहुत ही प्राचीन शहर है। मस्जिद ए अक्सा जिसे एख पवित्र स्थल को कहा जाता है। इसे हजरत सुलेमान अलैही सलाम ने बनवाया था। यह पवित्र परिसर यरुशलम की ओल्ड सिटी का हिस्सा है।

भूमध्य सागर और मृत सागर के बीच पर बसा यरुशलम एक शानदार शहर है। शहर की सीमा के पास दुनिया का सबसे ज्यादा नमक वाला डेड सी यानी मृत सागर है। कहते हैं यहां के पानी में इतना नमक है कि इसमें किसी भी प्रकार का जीवन नहीं पनप सकता और इसके पानी में मौजूद नमक के कारण इसमें कोई डूबता भी नहीं है।

यरुशलम का इतिहास उस वक्त का है, जब इजरायल का नामोनिशान तक नहीं था दुनिया में। यरुशलम की गिनती प्राचीन नगरों में की जाती है। यरुशलम के पास से जॉर्डन सीमा प्रारंभ होती है। यहां की आधिकारिक भाषा हिब्रू है, लेकिन अरबी और अंग्रेजी अब ज्यादा बोली जाती है। फिलहाल यरुशलम सहित इसराइल के बाशिंदे लगभग 75 प्रतिशत यहूदी, 15 प्रतिशत ‍मुस्लिम और 10 प्रतिशत अन्य धर्म को मानते है।

मध्यपूर्व का यह प्राचीन नगर यहूदी, ईसाई और मुसलमानों का संगम स्थल है। उक्त तीनों धर्मों के लोगों के लिए इसका महत्व है इसीलिए यहां पर सभी अपना कब्जा बनाए रखना चाहते हैं। जेहाद और क्रूसेड के दौर में सलाउद्दीन और रिचर्ड ने इस शहर पर कब्जे के लिए बहुत सारी लड़ाइयां लड़ीं। ईसाई तीर्थयात्रियों की रक्षा के लिए इसी दौरान नाइट टेम्पलर्स का गठन भी किया गया था।

इसराइल का एक हिस्सा है गाजा पट्टी और रामल्लाह, जहां फिलीस्तीनी मुस्लिम लोग रहते हैं और उन्होंने इसराइल से अलग होने के लिए विद्रोह छेड़ रखा है। ये लोग यरुशलम को इसराइल के कब्जे से मुक्त कराना चाहते हैं। अंतत: इस शहर के बारे में जितना लिखा जाए, कम है।

यहूदी और ईसाई मानते हैं कि यही धरती का केंद्र है। राजा दाऊद और सुलेमान के बाद इस स्थान पर बेबीलोनियों तथा ईरानियों का कब्जा रहा फिर इस्लाम के उदय के बाद बहुत काल तक मुसलमानों ने यहां पर राज्य किया। इस दौरान यहूदियों को इस क्षेत्र से कई दफे खदेड़ दिया गया।

अल अक्सा मस्जिद- यरुशलम की अल अक्सा मस्जिद को ‘अलहरम-अलशरीफ’ के नाम से भी जानते हैं। मुसलमान इसे तीसरा सबसे पवित्र स्थल मानते हैं। इसलाम में है कि यहीं से हजरत मुहम्मद (PBUH) जन्नत की तरफ गए थे और अल्लाह का आदेश लेकर पृथ्वी पर लौटे थे।

इस ‍मस्जिद के पीछे की दीवार ही पश्चिम की दीवार कहलाती है, जहां नीचे बड़ा-सा परिसर है। इसके अलावा मुसलमानों के और भी पवित्र स्थल हैं, जैसे कुव्‍वत अल सकारा, मुसाला मरवान तथा गुम्बदे सखरा भी प्राचीन मस्जिदों में शामिल है।

TOPPOPULARRECENT