पुलिस के आने से पहले विकास दुबे फरीदाबाद के होटल से भागा!

पुलिस के आने से पहले विकास दुबे फरीदाबाद के होटल से भागा!

चौबेपुर के बिकरू गांव में हुए शूटआउट के छठे दिन पुलिस ने गैंगस्टर विकास दुबे के करीबीअमर दुबे का एनकाउंटर कर दिया है।

भास्कर डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने हमीरपुर में अमर को मार गिराया। अमर बिकरू केशूटआउट में शामिल था। पुलिस ने उस पर 25 हजार का इनाम घोषित किया था।

दूसरी ओर विकास पर इनामी राशि 2.5 लाख से बढ़ाकर 5 लाख कर दी गई है। यहयूपी में किसी अपराधी पर अब तक का सबसे बड़ा इनाम है।इससे पहले मंगलवार को विकास फरीदाबाद के एक होटल में देखा गया।

सूत्रों के मुताबिक विकास फरीदाबाद के सेक्टर-87 में अपने रिश्तेदार के घर रुका था। उसने होटल में रूम बुक करवाने की कोशिश की, लेकिन सही आईडी नहीं होने की वजह से बुकिंग नहीं कर पाया।

इसी बीच किसी ने पुलिस को सूचना दे दी, लेकिन पुलिस के पहुंचने से पहले ही विकास भाग गया। फरीदाबाद में विकास के 3 साथियों अंकुर, प्रभात और कार्तिकेय को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

2पिस्टल भी मिली हैं,ये यूपी पुलिस की हैं।बिकरू शूटआउट में बदमाशों ने 8 पुलिसवालों की हत्या कर कर उनके हथियार भी लूट लिए थे।

फरीदाबाद तक अमर भी विकास के साथ था, लेकिन पुलिस की सख्ती को देखते हुए दोनों अलग-अलग हो गए। अमर हमीरपुर होते हुए मध्यप्रदेश भागना चाहता था, इसलिएमंगलवार रात हमीरपुर में एक रिश्तेदार के घर पहुंच गया।

एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि अमर के हमीरपुर में होने की सूचना पर एसटीएफ की टीम मौके पर पहुंची। अमर को सरेंडर करने के लिए कहा, लेकिन उसने फायरिंग कर दी।

इससे एसआई मनोज शुक्ला और एसटीएफ का एक सिपाही घायल हो गया।पुलिस की जवाबी कार्रवाई में अमर मारा गया। हमीरपुर के एसपी श्लोक कुमार ने बताया कि अमर की ऑटोमैटिकगन और एक बैग बरामद कर लिए हैं। फोरेंसिक टीम जांच कर रही है।

अमर ने 10 बदमाशों के साथ बिल्हौर के सीओ देवेंद्र मिश्र की हत्या की थी। अमर और उसके साथी मिश्र को घसीटकर विकास दुबे के मामा प्रेम कुमार पांडे के घर में ले गए और गोलियों से भून दिया। धारदार हथियार से भी वार किए थे। प्रेम कुमार पांडे एनकाउंटर में पहले ही मारा जा चुका है।

कानपुर शूटआउट की एफआईआर में अमर दुबे का नाम 14वें नंबरपर और वॉन्टेड अपराधियों की लिस्ट में पहले नंबर पर था। अमर और विकास रिश्तेदार थे। अमर रंगदारी और शराब के ठेकों से वसूली करता था।

यूपी एसटीएफ ने मध्य प्रदेश के शहडोल में विकास के साले राजू निगम के घर भी दबिश दी। राजू नहीं मिला तो, एसटीएफ की टीम उसके बेटे को साथ ले गई।

वहीं राजू का कहना है कि 15 साल से उसका विकास से कोई कॉन्टैक्ट नहीं है, पुलिस चाहे तो कॉल डिटेल निकाल कर जांच कर सकती है।

गुड़गांव के कमिश्नर केके राव ने एक ऑडियो मैसेज में कहा है कि विकास गुड़गांव में एंट्री कर सकता है। उसके पास पर्सनल गाड़ी नहीं है।वह थ्री-व्हीलर या टैक्सी से मूवमेंट कर सकता है। सभी बॉर्डर पर नजर रखी जाए।

इसके साथ ही यूपी, राजस्थान, दिल्ली, मध्य प्रदेश, हरियाणा में अलर्ट जारी किया है। इन राज्यों में पुलिस विकास और उसके गुर्गों की तलाश कर रही है।विकास की पहचान के तौर पर बताया गया है कि वह लंगड़ा कर चलता है।

इस बीच कानपुर पुलिस ने विकास दुबेकी गैंग में शामिल श्यामू बाजपेयी को भी गिरफ्तार कर लिया है। श्यामू केपैरमें गोली लगने के बाद पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

Top Stories