Wednesday , December 13 2017

फिर सामने आया जवान का वीडियो, सेना के अफसरों पर लगाए गंभीर आरोप

नई दिल्ली: बीसएफ जवान तेज बहादुर के बाद सेना के जवानों की शिकायत भरी वीडियो का सिलसिला अभी भी जारी है। सोशल मीडिया के जरिए हमारे सामने एक और जवान का वीडियो सामने आया है जिसमें सैनिक सिंधव जोगीदास ने सेना में मौजूद ‘सहायक सिस्टम’ पर सवाल उठाए हैं। जोगीदास का कहना है कि सेना के कुछ अफसरों ने अपने जवानों को अपना गुलाम समझ कर रखा हुआ है।

छुट्टी के बाद अगर कोई जवान देरी से आता है तो उससे सजा के रूप में सहायक के तौर पर काम करने की सजा दी जाती है और मजबूरी में सबको करना पड़ता है क्योंकि सेना का संविधान बहुत सख्त हैं। अगर कोई अफसरों के खिलाफ अपना मुंह खोलता है तो वह मारा जाता है। इस वीडियो में आपबीती बताते हुए जवान ने कहा है कि निर्धारित समय से दो दिन ज्यादा छुट्टी लेने पर उन्हें जबरदस्ती ‘सहायक’ के तौर पर काम करवाया गया।

हर जवान यही चाहता है कि मेरे देश की सेना की इज्जत सबसे ऊपर हो। लेकिन इस तरह के बर्ताव को हम कब तक यूं ही सहते रहेंगे। इसके साथ उन्होंने कहा कि सेना अपने जवानों को जो भी सुविधाएं देती है वह सिर्फ दिखावे के लिए ही हैं असल में हमें खाने में सबसे सस्ती सब्जी, सबसे सस्ते फल और सबसे घटिया खाना दिया जाता है ताकि जवान बस ज़िंदा ही रह सकें। हालांकि इस बात को साबित करने के लिए मेरे पास कोई सबूत नहीं है इसलिए इस पर मैं कुछ ज्यादा नहीं कहूँगा।

जवान ने लगाया है कि उन्होंने जब इस बारे में सेना द्वारा जारी किए गए वॉट्सएप नंबर पर शिकायत की तो उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। जिसके बाद उन्होंने सेना, रक्षा मंत्रालय और यहां तक कि पीएमओ में भी इसके खिलाफ पत्र लिखा, लेकिन इसके बाद उनके खिलाफ ‘कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी’ शुरू कर दी गई।

TOPPOPULARRECENT