गुड़गांव : खतीब-ओ-इमाम अब्दुल वाजिद ने कहा, हमने कुछ भी गलत नहीं किया, यह लोगों को समझना चाहिए

गुड़गांव : खतीब-ओ-इमाम अब्दुल वाजिद ने कहा, हमने कुछ भी गलत नहीं किया, यह लोगों को समझना चाहिए
Click for full image

हर शुक्रवार सुबह 11 बजे 27 वर्षीय अब्दुल वाजिद गुड़गांव के बसई गांव के लेन नं. 5 में अपना कमरा छोड़ देते हैं और सड़क से 500 मीटर से कम दूरी पर स्थित शांति समूह में जाते हैं। जैसा कि वह देखते है कि स्थानीय 300 से अधिक लोग जुम्मा की नमाज के लिए मैट और चादरें बिछाने की तैयारी में जुटे हैं।

एक टेम्पो आता है और पानी से भरा ड्रम उतार दिया जाता है और उसको वुजू बनाने के लिए कोने में रखा जाता है। करीब 12.30 बजे नमाज पढ़ने वाले लोग आना शुरू हो जाते हैं। उनमें मजदूर, ऑटोरिक्शा चालक, दुकानदार और निजी क्षेत्र के कर्मचारी हैं। वाजिद यहां इमाम के रूप में पिछले चार साल से जुम्मा की नमाज का नेतृत्व कर रहे हैं।

हालांकि, यह रमजान अलग है। गुड़गांव में खुले में शुक्रवार की नमाज के खिलाफ मई में कट्टरपंथी हिंदू संगठनों के सदस्यों के विरोध किया जिसके बाद रमजान आ गया। वह स्थान जहां वाजिद नमाज पढ़ते हैं, शहर में 23 खुली जगहों में से एक है जिसके लिए 10 मई को प्रशासन द्वारा शुक्रवार की नमाज को आधिकारिक तौर पर अनुमति दी गई थी।

यद्यपि जुम्मा की नमाज आमतौर पर दोपहर 2 बजे तक होती है, वजीद केवल एक घंटे बाद अपने कमरे में वापस आ जाते हैं। मैट और शीट्स को हटा लिया जाता है और क्षेत्र साफ हो जाता है। नमाज ख़त्म होने के बाद वाजिद को एक मुस्लिम समिति द्वारा 10,000 रुपये का भुगतान किया जाता है। इनमें से, वह 8×8 फीट कमरे के लिए मासिक किराए पर 1000 रुपये खर्च करता है, जिसमें दो सिंगल बेड और दो छोटी टेबल हैं। शेष जगह में किताबें रखी हैं।

वाजिद कहते हैं कि रमजान के दिनों में वह व्यस्त रहते हैं। वाजिद सुबह 3 बजे उठते हैं और फज़्र की नमाज के कुछ देर बाद लौट आते है। रोजे के दौरान वह जौहर की नमाज और फिर अस्र की नमाज अदा करते हैं। वे कहते हैं कि शाम की नमाज के बाद दो घंटे तक बच्चों के लिए उर्दू और अरबी कक्षाएं लेते हैं।

वाजिद का कहना है कि उनकी मंडली गुड़गांव में उन लोगों में से नहीं थी, जिन्हें खुले स्थानों पर नमाज पर विरोध का सामना करना पड़ा। अधिकारियों ने तब कहा था कि 23 स्वीकृत स्थानों पर और बातचीत रमजान के बाद होगी। दोनों समूह अब तक प्रशासन के साथ सहयोग कर रहे हैं।

गुड़गांव के डिप्टी कमिश्नर विनय प्रताप सिंह कहते हैं, “हम चर्चाओं के लिए खुले हैं लेकिन शहर में शांति और व्यवस्था पर समझौता नहीं करेंगे। वक्फ बोर्ड के अधिकारियों ने यह पुष्टि करते हुए कहा कि गुड़गांव में दो-तीन लाख मुसलमान हैं और के 30 से कम स्थान हैं।

Top Stories