पढ़ें, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में क्या कुछ बोले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

पढ़ें, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में क्या कुछ बोले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
Click for full image

भारतीय राष्ट्रवाद का विचार वैसा बिलकुल भी नहीं है जैसा यूरोपियन देश कहते हैं और इसे फिर से परिभाषित करने की कोशिश अनावश्यक है. ये बातें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कहीं. मुखर्जी मोहम्मदन एंग्लो ऑरिएंटल कॉलेज के संस्थापक सर सैयद अहमद खान के 200वें जन्मदिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे.
 उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद की परिभाषा को फिर से परिभाषित करने के लिए समय-समय पर प्रयास किए गए हैं. ऐसे प्रयास अनावश्यक हैं क्योंकि हमारी राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय पहचान की अवधारणा पहचान के आधुनिक और उत्तर आधुनिक निर्माण से पहले ही होती है. यूरोपीय राष्ट्र के संदर्भों में राष्ट्रवाद की अवधारणा भारतीय सभ्यता में एक नई घटना है.

मुखर्जी ने कहा कि क्षेत्र, राजतंत्र, सांसारिक और आध्यात्मिक प्राधिकरण भारत में राष्ट्रवाद को परिभाषित नहीं कर सकते. उन्होंने आगे कहा कि राष्ट्रवाद कानून द्वारा लागू नहीं किया जा सकता है, इसके अलावा ये अदालती हुक्म या फिर घोषणा से भी लागू नहीं किया जा सकता।

Top Stories