Tuesday , July 17 2018

जानें, जुम्मे की नमाज़ के लिए दो बार अजान क्यों होती है?

एक सवाल किया कि जुम्मा की नमाज़ के लिए दो बार अज़ान क्यों दी जाती हैं, जबकि इस्लाम के पैगंबर मुहम्मद (सल्ल.) के मिम्बर पर चढ़ने के बाद उनकी उपस्थिति में एक बार ही अज़ान दी गई थी। इस सवाल का जवाब दिया गया कि पैगंबर (सल्ल.) के समय, इकमा के साथ एक अज़ान हुई थी।

जब पैगंबर (सल्ल.) खुतुबाह देने के लिए खड़े हुए तो मुअज्जिन ने अजान दी तब पैगंबर (सल्ल.) ने दो ख़ुत्बे दिए, तो इकमा दिया गया लेकिन फिर मदीना में लोगों की संख्या खलीफा ‘उस्मान इब्ने अफ्फान (रजि.) के समय बढ़ी, इसलिए उन्होंने और एक अजान को जोड़ने का फैसला किया।

इसे पहला अजान कहा जाता है और लोगों को इस तथ्य के बारे में सतर्क करने के लिए दिया जाता है कि यह दिन शुक्रवार है, ताकि वे स्वयं को तैयार कर सकें और नियमित नमाज़ में जल्दी जाएं।

इस्लाम में दिन भर की पांचों नमाज़ों के लिए बुलाने के लिए ऊँचे स्वर में जो शब्द कहे जाते हैं, उन्हें अज़ान कहते हैं। सहाबा ने उस समय उसका पालन किया।और इस तरह मुसलमानों ने सही ढंग से निर्देशित खलीफा की कार्रवाई के बाद अधिकांश क्षेत्रों में ऐसा करना शुरू किया।

मुद्दा यह है कि यह उस्मान की खिलाफत के दौरान हुआ और बाद में पूरे क्षेत्रों पूरे शताब्दियों में अधिकांश मुसलमानों का अभ्यास बना। आज भी इसका पालन किया जाता है और इसमें कुछ भी गलत नहीं है, क्योंकि पैगम्बर (सल्ल.) ने कहा: ‘मैं आपको अपनी सुन्नत को अपनाने के खलीफा के मार्ग का पालन करने का आग्रह करता हूं, इसे मजबूती से पकड़ो। वह (उस्मान) खलीफाओं में से एक थे।

TOPPOPULARRECENT