Saturday , December 16 2017

यहूदी, ईसाई और मुसलमान के लिए क्यों ज़रूरी है पवित्र स्थल यरुशलम?

जेरूशलम या यरुसल्मेबहुत ही प्राचीन शहर है।   भूमध्य सागर और मृत सागर के बीच इसराइल की सीमा पर बसा यरुशलम एक शानदार शहर है। शहर की सीमा के पास दुनिया का सबसे ज्यादा नमक वाला डेड सी यानी मृत सागर है। कहते हैं यहां के पानी में इतना नमक है कि इसमें किसी भी प्रकार का जीवन नहीं पनप सकता और इसके पानी में मौजूद नमक के कारण इसमें कोई डूबता भी नहीं है।
इसराइल के 4 प्रमुख क्षेत्र हैं- तेल अवीव, यरुशलम, हैफा और बीयर शेव। यरुशलम इसराइल का सबसे बड़ा शहर और राजधानी है। यरुशलम की गिनती प्राचीन नगरों में की जाती है। यरुशलम के पास से जॉर्डन सीमा प्रारंभ होती है। इसराइल के तेल अवीव की सीमा भी इससे लगी हुई है। यहां की आधिकारिक भाषा हिब्रू है, लेकिन अरबी और अंग्रेजी अब ज्यादा बोली जाती है। यरुशलम सहित इसराइल के बाशिंदे लगभग 75 प्रतिशत यहूदी, 15 प्रतिशत ‍मुस्लिम और 10 प्रतिशत अन्य धर्म को मानते हैं।

मध्यपूर्व का यह प्राचीन नगर यहूदी, इसाई और मुसलमानों का संगम स्थल है। उक्त तीनों धर्मों के लोगों के लिए इसका महत्व है इसीलिए यहां पर सभी अपना कब्जा बनाए रखना चाहते हैं। जेहाद और क्रूसेड के दौर में सलाउद्दीन और रिचर्ड ने इस शहर पर कब्जे के लिए बहुत सारी लड़ाइयां लड़ीं। ईसाई तीर्थयात्रियों की रक्षा के लिए इसी दौरान नाइट टेम्पलर्स का गठन भी किया गया था।
इसराइल का एक हिस्सा है गाजा पट्टी और रामल्लाह, जहां फिलीस्तीनी मुस्लिम लोग रहते हैं और उन्होंने इसराइल से अलग होने के लिए विद्रोह छेड़ रखा है। ये लोग यरुशलम को इसराइल के कब्जे से मुक्त कराना चाहते हैं। अंतत: इस शहर के बारे में जितना लिखा जाए, कम है।
प्राचीन और नया शहर : माउंट ऑफ ओलिव्स पर खड़े होकर आप अपने सामने यरुशलम के प्राचीन शहर को देखते हैं तो उसके मनोरम और भव्य दृश्य का नजारा देख आप मंत्रमुग्ध होकर सोचना बंद कर देते हैं। ओलिव्स पहाड़ी से सुंदर गुंबद और गुंबदों के पीछे दीवार नजर आती है। एक वर्ग किलोमीटर की पहाड़ी दीवारों से घिरा हजारों सालों का इतिहास लिए यह शहर दुनिया की आधी से ज्यादा आबादी की आस्था का केंद्र है।
इतिहास और विवाद : हिब्रू में लिखी बाइबिल में इस शहर का नाम 700 बार आता है। यहूदी और ईसाई मानते हैं कि यही धरती का केंद्र है। राजा दाऊद और सुलेमान के बाद इस स्थान पर बेबीलोनियों तथा ईरानियों का कब्जा रहा फिर इस्लाम के उदय के बाद बहुत काल तक मुसलमानों ने यहां पर राज्य किया। इस दौरान यहूदियों को इस क्षेत्र से कई दफे खदेड़ दिया गया।
द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद इसराइल फिर से यहूदी राष्ट्र बन गया तो यरुशलम को उसकी राजधानी बनाया गया और दुनियाभर के यहूदियों को पुन: यहां बसाया गया। यहूदी दुनिया में कहीं भी हों, यरुशलम की तरफ मुंह करके ही उपासना करते हैं।
ऐतिहासिक म्‍यूजियम व स्मारक : धार्मिक स्थलों के अलावा यहां प्राचीन एवं धार्मिक ग्रंथों का ‘द इसराइल म्‍यूजियम’ है। इसराइल का होलोकॉस्‍ट म्‍यूजियम, जिसे ‘याद वशेम’ कहा जता है, का खासा महत्व है। यहां पर यरुशलम के इतिहास से संबंधित दस्तावेज और शहीदों के स्मारक व स्मृति चिह्नों आदि के बारे में जानकारी है। दोनों ही म्‍यूजियमों का इतिहास बहुत पुराना है।
यरुशलम के जंगल : मुस्लिम इलाके में स्थित 35 एकड़ क्षेत्रफल में फैले नोबेल अभयारण्य में ही अल अक्सा मस्जिद, डोम ऑफ द रॉक, फव्‍वारे, बगीचे, गुम्‍बद और प्राचीन इमारतें बनी हुई हैं। इसके अलावा छोटे से गार्डन ऑफ गेथेमिन की खूबसूरती भी देखने लायक है। इसके अलावा ‘याद वशेम’ का इलाका भी यरुशलम के जंगल के नाम से प्रसिद्ध है।
पवित्र परिसर : किलेनुमा चहारदीवारी से घिरे पवित्र परिसर में यहूदी प्रार्थना के लिए इकट्ठे होते हैं। इस परिसर की दीवार बहुत ही प्राचीन और भव्य है। यह पवित्र परिसर ओल्ड सिटी का हिस्सा है। पहाड़ी पर से इस परिसर की भव्यता देखते ही बनती है। इस परिसर के ऊपरी हिस्से में तीनों धर्मों के पवित्र स्थल हैं। उक्त पवित्र स्थल के बीच भी एक परिसर है। पहाड़ी पर से इस परिसर की भव्यता देखते ही बनती है। इस परिसर के ऊपरी हिस्से में तीनों धर्मों के पवित्र स्थल हैं। उक्त पवित्र स्थल के बीच भी एक परिसर है।
यरुशलम में लगभग 1204 सिनेगॉग, 158 गिरजें, 73 मस्जिदें, बहुत-सी प्राचीन कब्रें, 2 म्‍यूजियम और एक अभयारण्य हैं। इसके अलावा भी पुराने और नए शहर में देखने के लिए बहुत से दर्शनीय स्थल हैं। यरुशल में जो भी धार्मिक स्थल हैं, वे सभी एक बहुत बड़ी-सी चौकोर ‍दीवार के आसपास और पहाड़ पर स्थित हैं।
दीवार के पास तीनों ही धर्मों के स्थल हैं। यहां एक प्राचीन पर्वत है जिसका नाम जैतून है। इस पर्वत से यरुशलम का खूबसूरत नजारा देखा जा सकता है। इस पर्वत की ढलानों पर बहुत-सी प्राचीन कब्रें हैं। यरुशलम चारों तरफ से पर्वतों और घाटियों वाला इलाका नजर आता है।
टॉवर ऑफ डेविड : जियोन के नजदीक प्राचीन जाफा गेट पर बना हुआ है प्राचीन ‘टॉवर ऑफ डेविड’ जिसे बुर्ज दाऊद या दाऊद का गुम्बद भी कहा जाता है। माना जाता है कि यहां राजा सुलेमान (सोलोमन) की कब्र है। यहीं से पुराने शहर में प्रवेश किया जाता है। इस गेट के आसपास किलेनुमा परकोटा है और गेट के अंदर घुसते ही एक ओर आर्मेनियाई क्वार्टर तो दूसरी और ‍ईसाई क्वार्टर है। गेट से बाहर जियोन पहाड़ी पर ‘सिटी ऑफ डेविड’ को देखने के लिए भी लोगों की भीड़ जमा होती है।
सोलोमन टेम्पल : दाऊद के बेटे ही सुलेमान थे जिन्हें इसराइल का सम्राट माना जाता था। माना जाता है कि सोलोमन टेम्पल का निर्माण 10वीं शताब्‍दी ईसा पूर्व में हुआ था। मूलत: यह मंदिर हिब्रू (यहूदी) संप्रदाय से संबंधित है। पवित्र सोलोमन टेम्पल को रोमनों ने नष्ट कर दिया था।
उक्त टेम्पल बाइबिल में प्रथम प्रार्थनालय के नाम से दर्ज है। चहारदीवारी से घिरे इस भव्य टेम्पल के स्थल पर ही अब यहूदियों के महत्वपूर्ण स्थल टेम्पल माउंट और पश्चिमी दीवार के अलावा अल अक्सा मस्जिद, डोम ऑफ द रॉक और चर्च हैं। हालांकि यह विवाद का विषय और जगह है।
सिटी ऑफ डेविड : इसराइल के सम्राट दाऊद के नाम पर उनके बेटे सुलेमान ने एक नगर बसाया था जिसे ‘सिटी ऑफ डेविड’ कहा जाता है। ओल्ड सिटी के जियोन गेट या डंग गेट से निकलकर जियोन पहाड़ी पर इस प्राचीन सिटी के अवशेष आज भी देखे जा सकते हैं। माना जाता है कि यह लगभग 3,000 वर्ष पुराना शहर है। सोलोमन मंदिर के साथ ही इसे बनाया गया था। पर्यटकों के बीच यह सिटी आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। यहीं डर्मिशन चर्च के पास उनकी कब्र है।
वेलिंग वॉल : वेलिंग वॉल को ‘विलाप की दीवार’ भी कहते हैं। यह यहुदियों का सबसे पवित्र स्थल है। माना जाता है कि यही प्राचीन प्रार्थनालय सोलोमन टेम्पल का परिसर है। इस दीवार के ऊपरी हिस्से में अल-अक्सा मस्जिद स्थित है। यहीं पास में टेम्पल माउंट अर्थात डोम ऑफ द रॉक है। इस दीवार को पश्चिमी दीवार भी कहते हैं।
माना जाता है कि दीवार के ऊपर बने अपने धार्मिक स्थल के अपने हाथों से निकल जाने के गम में यहूदी दीवार के समक्ष विलाप करते हैं और प्रार्थना भी। अल-अक्सा मस्जिद (अलहरम-अलशरीफ) का एक हिस्सा बन चुका यह स्थल यहूदियों और मुसलमानों दोनों का एक पावन स्थल है।
चार क्वार्टर : पश्चिमी दीवार के सामने वाले हिस्से में परिसर के बाद पथ पार करके यहूदियों के क्वार्टर का क्षेत्र शुरू हो जाता है। ओल्ड सिटी से बाहर निकलने के लिए यहीं पास में डंग गेट है, जहां से निकलकर आप क्वार्डन घाटी में जा सकते हैं।
यहूदी क्वार्टर की सीमा जहां समाप्त होती है, वहीं से मुस्लिम क्वार्टर की सीमा शुरू होकर हिरोड्‍स और लॉयन गेट पर खत्म होती है। मुस्लिम क्वार्टर का क्षेत्र भी बहुत बड़ा है। मुस्लिम क्वार्टर के पीछे ईसाई क्वार्टर है और यहूदियों के क्वार्टर के पीछे आर्मेनियाई क्वार्टर है।
ईसाई क्वार्टर के लिए न्यू गेट और आर्मेनियाई क्वार्टर के लिए जफा और जियोन गेट नजदीक पड़ता है। जियोन गेट पर ही बना है चर्च ऑफ डर्मिशन। यहां से जियोन पहाड़ी पर सिटी ऑफ डेविड देखने जा सकते हैं। मुस्लिम और ईसाई क्वार्टर की विभाजक रेखा पर स्थित है दमश्क गेट।
टेम्पल माउंट : यहूदी इसे ‘टेम्पल माउंट’ कहते हैं। इस टेम्पल के नजदीक ही गोल्डन गेट है, जहां से ओल्ड सिटी के बाहर जाया जा सकता है। टेम्पल का गुम्बद सोने से जड़ित है। माना जाता है कि ईश्वर ने प्रथम आदमी की यहीं पर उत्पत्ति की थी। यहीं पर मानव के निर्माण के लिए धूल इकट्ठी हुई थी। यह स्थान मुसलमान, ईसाई और यहूदियों के लिए पवित्र स्थान है। सभी इस पर आधिपत्य चाहते हैं।
डोम ऑफ द रॉक : टेम्पल माउंट को ही डोम ऑफ द रॉक कहा जाता है। मुसलमानों की आस्था है कि डोम ऑफ द रॉक ही वह स्थान है, जहां से पैगंबर मुहम्मद साहब को नमाज के लिए पहली बार हिदायत मिली थी। हालांकि कुछ लोगों का मानना है कि डोम ऑद द रॉक टेम्पल माउंट और अल अक्सा मस्जिद के बीच है।
यरुशलम को इब्रानी में येरुशलयिम और अरबी में अल-कुद्स कहा जाता है। पिछले सैकड़ों सालों से यह स्थान विवाद का केंद्र रहा है। शुरुआत से ही यहूदियों के प्राचीन राज्य इसराइल में यहूदियों के 10 कबीले रहा करते थे। इस शहर में 3 बड़े धर्मों के लोगों के 4 रिहायशी क्षेत्र बने हैं।
सुंदर और नक्काशीदार खास चीजों की छोटी दुकान, रोमांचक जायकों की खुशबू फैलाते रेस्तरां, रंग-बिरंगे परिधानों में लोग, नजारों, ध्वनियों और सुगंधों का मिश्रण किसी को भी इस शहर का दीवाना बना सकता है। यरुशलम के 2 हिस्से हैं- ओल्ड सिटी और द न्यू सिटी।
ओल्ड सिटी : ओल्ड सिटी में प्रवेश करते ही लगता है कि मानो हम पहली सदी में रह रहे हैं। ओल्ड सिटी में प्रवेश के लिए 8 प्राचीन गेट हैं। जफा गेट (Jaffa), जिओन गेट (Zion), डंग गेट (Dung), गोल्डन गेट (Golden), लायन गेट (Lions), हेरोड्‍स गेट (Herods), दमश्क गेट (Damascus) और न्यू गेट (New gat)।
ओल्ड सिटी में स्थित 4 क्वार्टर सभी की निगाहों में आते हैं, जहां यहूदी, ईसाई, आर्मेनियाई और मुसलमान रहते हैं। चहारदीवारी से घिरे शहर के भीतर 3 धर्मों की सबसे पवित्र जगहें हैं- द वेस्टर्न वॉल, अल अक्सा मस्जिद और चर्च ऑफ द होली स्कल्प्चर। इसके अलावा यहां और भी बहुत कुछ है, जैसे यरुशलम के राजा दाऊद का टॉवर और असंख्‍य प्राचीन कब्रें और चर्च। दरअसल, पुराना शहर ही सच्चा यरुशलम माना जाता है। ईसाई और यहूदी मानते हैं इसे दुनिया का केंद्र।
द न्यू सिटी : दूसरी तरफ ओल्ड सिटी से बाहर निकलते ही आप 21वीं सदी में प्रवेश कर जाते हैं, जहां है आधुनिक होटल व इमारतें, आधुनिक यातायात और आधुनिक जीवनशैली। पर्यटकों के ठहरने के लिए उत्तम स्थान और यातायात व्यवस्था। पश्चिमी यरुशलम का डाउनटाउन इलाका (द न्यू सिटी) अपने केंद्रीय त्रिकोण जाफा रोड, किंग जॉर्ज रोड और बेन यहुदा स्ट्रीट के साथ शुक्रवार और शनिवार को चहल-पहल वाला इलाका होता है। द न्यू सिटी में भी देखने के लिए बहुत सारे प्राचीन चर्च, मस्जिद और सिनेगॉग हैं।
अल अक्सा मस्जिद : यरुशलम की अल अक्सा मस्जिद को ‘अलहरम-अलशरीफ’ के नाम से भी जानते हैं। मुसलमान इसे तीसरा सबसे पवित्र स्थल मानते हैं। उनका विश्वास है कि यहीं से हजरत मुहम्मद जन्नत की तरफ गए थे और अल्लाह का आदेश लेकर पृथ्वी पर लौटे थे। इस ‍मस्जिद के पीछे की दीवार ही पश्चिम की दीवार कहलाती है, जहां नीचे बड़ा-सा परिसर है। इसके अलावा मुसलमानों के और भी पवित्र स्थल हैं, जैसे कुव्‍वत अल सकारा, मुसाला मरवान तथा गुम्बदे सखरा भी प्राचीन मस्जिदों में शामिल है।
चर्च ऑफ द होली स्कल्प्चर : ईसाइयों के लिए भी यह शहर बहुत महत्व रखता है, क्योंकि यह शहर ईसा मसीह के जीवन के अंतिम भाग का गवाह है। ईसाइयों का विश्वास है कि ईसा एक बार फिर यरुशलम आएंगे। पुराने शहर की दीवारों से सटा एक प्राचीन पवित्र चर्च है जिसके बारे में मान्यता है कि यहीं पर प्रभु यीशु पुन: जी उठे थे। माना यह भी जाता है कि यही ईसा के अंतिम भोज का स्थल है। यह चर्च ईसाई क्वार्टर के इलाके में है।
चर्च ऑफ डर्मिशन : जियोन गेट के पास स्थित चर्च ऑफ डर्मिशन का महत्व भी कम नहीं है। माना जाता है कि इसका पहले नाम वर्जिन मेरी था। यह स्थान मदर मेरी के स्थान के नाम से जाना जाता है। यहां उनकी सुंदर मू‍र्ति और यहां एक प्राचीन शिलालेख है जिस पर हिब्रू भाषा में चर्च के बारे में लिखा है। यहीं आगे राजा डेविड की कब्र है। एक चर्च लॉयन गेट के सामने ही भी है, जहां वर्जिन मेरी की कब्र है।
अन्य चर्च : मेरी मेग्दलीन यीशु की शिष्या थी या पत्नी, इस संबंध में विवाद है। ओल्ड सिटी की दीवारों के बाहर लॉयन गेट के आगे इनके नाम का एक प्राचीन चर्च है। इसके अलावा ईसाइयों के ऐतिहासिक महत्व के बहुत सारे चर्च ओल्ड और न्यू सिटी में हैं।
विवा डोलोरोसा : विवा डोलोरोसा वह क्षेत्र है, जहां से यीशु को क्रॉस के साथ ले जाया गया था। इसे दुख या पीड़ा का मार्ग माना जाता है। होली स्कल्प्चर से फ्लेगलेशन तक का मार्ग। इस मार्ग के बाद ओल्ड सिटी के पूर्वी भाग में चर्च ऑफ फ्लेगलेशन को वह स्थान माना जाता है, जहां सार्वजनिक रूप से यीशु की निंदा हुई और उन्हें क्रॉस पर चढ़ा दिया। यह एक रोमन कैथोलिक चर्च है, जो संत स्टीफन गेट के पास है। इस चर्च के पास ही संत एन्ना का चर्च भी है, जो 12वीं सदी में निर्मित हुआ था।
TOPPOPULARRECENT