PHOTO- ‘मिस इंग्लैंड- ‘हिजाब गर्ल’ सारा इफ्तेखार ने जीता पूरी दुनिया का दिल

PHOTO- ‘मिस इंग्लैंड- ‘हिजाब गर्ल’ सारा इफ्तेखार ने जीता पूरी दुनिया का दिल
Click for full image

‘हिजाब गर्ल’ सारा इफ्तेखार भले ही ‘मिस इंग्लैंड’का ताज पाने में सफल न हुई हों, लेकिन लोगों के दिलों को जरूर जीत चुकी हैं। बहुत सी महिलाएं उन्हें अपना रोल मॉडल भी मानने लगी हैं, लेकिन ट्रोलर्स हैं कि लगातार उनके हिजाब को लेकर ही ट्रोल किए जा रहे हैं। वेबसाइट डेली मेल को दिए गए इंटरव्यू में सारा ने ऐसे ट्रोलर्स को जवाब देते हुए कहा, हिजाब पहनने वाली ‘ब्यूटी क्वीन’ क्यों नहीं बन सकती है। जल्द ही ऐसा वक्त भी आएगा।

हडर्सफील्ड विश्वविद्यालय में कानून की पढ़ाई करने वाली 20 वर्षीय पाकिस्तानी मूल की सारा इफ्तेखार का कहना है, मैं सिर्फ मुस्लिम महिलाओं के लिए ही नहीं, बल्कि सभी महिलाओं की रोल मॉडल बनना चाहती हूं। हिजाब के साथ पहनकर ब्यूटी कॉन्टेस्ट में शामिल होकर मैंने उनके मन में एक उम्मीद जगाई है, जो यह मानती हैं कि वह मोटी, सांवली और लंबी न होने की वजह से सौंदर्य प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले सकतीं। इससे उन्हें प्रेरणा मिलेगी, जो सुंदरता की परिभाषा में अपने आपको फिट न पाकर यह मानती हैं कि वह खूबसूरत नहीं हैं। उन्होंने कहा, हर किसी के खूबसूरती के अपने मायने होते हैं। इसलिए, यह कहना कि ऐसा दिखने वाला ही खूबसूरत होता है, यह गलत है।

अपने हिजाब पहनने को लेकर उन्होंने कहा, ट्रोलर्स कहते हैं कि हिजाब पहनने के लिए मेरे ऊपर दबाव डाला गया। किसी ब्यूटी कॉन्टेस्ट में हिजाब पहनकर जाने क्या मतलब है! मैंने ऐसा क्यों किया! ये लोग तब भी बोलते, जब मैं हिजाब नहीं पहनती। तब कहते, देखो मुस्लिम होकर भी हिजाब नहीं पहन रही है। अब पहनती हूं तो भी कहते हैं। इनका तो काम ही है कहना। रही बात मेरे ऊपर दबाव पड़ने की तो ऐसा कुछ नहीं है। मेरे परिवार के लोगों ने मेरे ऊपर कभी कोई दबाव नहीं बनाया। मैं अपनी मर्जी से हिजाब पहनती हूं। जो नहीं पहनते हैं, मैं उन्हें भी कुछ नहीं कहूंगी, वह उनकी मर्जी है।’ सारा इफ्तेखार ने कहा, जब आप दूसरों का सम्मान करेंगे तो दूसरे भी आपको सम्मान देंगे।

मैंने नस्लभेद का सामना किया

सारा इफ्तेखार का ने कहा, ‘मेरे मम्मी-पापा इतने सालों से इंग्लैंड में पले-बढ़े, कभी उन्हें ऐसा नहीं लगा कि पाकिस्तानी या एशियाई होने की वजह से उन्हें सम्मान न मिला हो। उन्होंने ऐसे कोई अनुभव मुझे कभी नहीं बताए, लेकिन मैंने नस्लभेद का सामना किया। मेरे साथ ऐसा हुआ। ब्यूटी कॉन्टेस्ट में मेरे साथ पाकिस्तानी होने की वजह से गलत व्यवहार किया गया। इसलिए, मुझे आगे नहीं बढ़ाया गया, क्योंकि मैं एशियाई हूं।’
मुझे बचपन से पसंद थी फैशन की दुनिया

सारा इफ्तेखार ने कहा, ‘मुझे बचपन से ही फैशन की दुनिया पसंद थी। बचपन में ब्यूटी क्वीन बनती थी। हाई हील पहनकर पूरे घर में कैटवॉक करती रहती थी। लेकिन मेरे मम्मी-पापा ने मुझे कभी नहीं रोका। उन्होंने कभी यह नहीं कहा, तुम यह मत करो। बल्कि इसके लिए वह मुझे हमेशा प्रोत्साहित करते थे।’

Top Stories