सुप्रीम कोर्ट और बातचीत से हल नहीं निकला तो राम मंदिर के लिए बनेगा कानून- केशव मौर्या

सुप्रीम कोर्ट और बातचीत से हल नहीं निकला तो राम मंदिर के लिए बनेगा कानून- केशव मौर्या

रामजन्मभूमि न्यास के सदस्य व मणिरामदास की छावनी के श्रीमहंत नृत्यगोपाल दास जी महाराज के जन्मोत्सव पर आयोजित संत सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव मौर्या ने राममंदिर निर्माण के मुद्दे पर कहा कि हमारे पास दो विकल्प हैं पहला सुप्रीम कोर्ट का निर्णय और दूसरा बातचीत का।

जब इन दोनों से समाधान नहीं निकलेगा तो कानून बनाकर मंदिर निर्माण का रास्ता निकलेगा। उन्होंने कहा कि मैं डिप्टी सीएम से पहले रामभक्त के साथ-साथ कारसेवक भी हूं। अब बहुत जल्द हमारा संकल्प व स्वप्न साकार होगा।

अमर उजाला पर छपी खबर के अनुसार, उन्होंने कहा कि जहां भी बात प्रारंभ होती है वह राममंदिर निर्माण से ही शुरू होती है। जब तक प्रस्तावित राममंदिर के शिखर पर कलश स्थापित नहीं हो जाता, यह चर्चा चलती रहेगी। संतों के आशीर्वाद से ही मोदी सरकार ने दूसरी पारी शुरू की है।

एक समय था जब सुनवाई लगातार टाली जा रही थी, आज सुनवाई चल रही है और बातचीत भी हो रही है। मध्यस्थता के लिए एक पैनल बनाया गया है जो सुलह-समझौते का प्रयास कर रहा है।

यदि सर्वोच्च न्यायालय के फैसले व बातचीत से यह मामला हल नहीं होता तो कानून बनाकर भी राममंदिर निर्माण का रास्ता बनाएंगे, लेकिन किसी भी कीमत पर बाबर के नाम पर एक भी ईंट नहीं रखने दी जाएगी।

संतों का जैसा भी आदेश होगा, पार्टी उसी के अनुसार काम करेगी। उन्होंने संतों को आश्वस्त किया कि सिर्फ अयोध्या ही नहीं देश के अन्य कई मंदिर बनने जा रहे हैं।

Top Stories