महिला दिवस- पहली मुस्लिम पोस्टवुमन जमीला जो बन रहीं हैं एक मिसाल!

महिला दिवस- पहली मुस्लिम पोस्टवुमन जमीला जो बन रहीं हैं एक मिसाल!

हैदराबाद: महबूबाबाद की विधवा जमीला अपने पति की मृत्यु के शोक के बजाय अपने पति की नौकरी में शामिल हो गई और अपने बच्चों को अपने आप पालने का फैसला किया। वह एक पोस्टवुमन के रूप में काम करती है और पत्र, तार और पार्सल आदि को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजती है।

जमीला महबूबाबाद जिले में गरला मंडल से आतीं हैं। उनके पति खजा मिया एक पोस्टमैन थे जिनकी 10 साल पहले मृत्यु हो गयी थी जब उनकी बड़ी बेटी 5 वीं कक्षा में थी और छोटी बेटी तीसरी कक्षा में थी। जमीला एक निराशाजनक स्थिति का सामना कर रही थी। सौभाग्य से जमीला ने अपने पति की नौकरी की। इस प्रकार वह डाक विभाग की पहली मुस्लिम पोस्ट वुमन बन गई।

सबसे पहले, जमीला एक साइकिल की सवारी करने के बारे में नहीं जानती थी। वह पैदल जातीं और घरों में पत्र और पार्सल वितरित करती थीं। अब उन्होंने साइकिल की सवारी करना सीख लिया है।

शुरू में, उनको 6000 रुपये का वेतन मिल रहा था जो उनके खर्चों को पूरा करने के लिए अपर्याप्त था। इसलिए उन्होंने अपनी नौकरी के साथ साड़ियों की बिक्री शुरू की। आज वह 10000 रुपए प्रति माह कमा रहीं हैं। उनकी बड़ी बेटी इंजीनियरिंग कर रही है और छोटी बेटी डिप्लोमा कोर्स कर रही है।

जमीला अब हैदराबाद के लोगों के लिए एक मिसाल बन गयीं हैं।

Top Stories