‘BSP’ आगामी उपचुनाव में ‘सपा’ से गठबंधन नहीं करेगी- मायावती

‘BSP’ आगामी उपचुनाव में ‘सपा’ से गठबंधन नहीं करेगी- मायावती

गोरखपुर और फूलपुर में हुए लोकसभा उपचुनावों में दोनों सीटों पर जीत दर्ज करने वाली समाजवादी पार्टी (सपा) के लिए बुरी खबर है। यूपी में अगले चुनावों में सपा-बसपा गठजोड़ से भाजपा को शिकस्त देने के मंसूबे पाल रहे अखिलेश यादव को बसपा सुप्रीमो मायावती ने झटका दे दिया है। मायावती ने सोमवार को कहा कि वह उत्तर प्रदेश में होने वाले उपचुनावों में अपने कार्यकर्ताओं को सक्रिय नहीं करेंगी।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में लोकसभा की सीट कैराना और विधानसभा की सीट नूरपुर में उपचुनाव होने हैं। बसपा के समर्थन से गोरखपुर और फूलपुर की सीट जीतने वाली सपा की नजरें कैराना और नूरपुर पर टिकी हैं और उसे उम्मीद थी कि सपा-बसपा मिलकर फिर से भाजपा को शिकस्त दे सकते हैं।

बसपा सुप्रीमो की इस घोषणा के बाद सपा को 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले होने वाले उपचुनावों में अपने बलबूते जाना होगा। सोमवार को बसपा के जिला एवं जोनल कोऑर्डिनेटर्स के साथ हुई बैठक के बाद मायावती की ओर से एक बयान जारी किया गया।

इस बयान में कहा गया, ‘बसपा आगामी उपचुनावों में अपने कार्यकर्ताओं को सक्रिय नहीं करेगी, जैसा कि उसने गोरखपुर और फूलपुर में किया था।’ गौरतलब है कि मायावती का यह बयान राज्यसभा चुनाव में बसपा को मिली हार के तीन बाद आया है।

राज्यसभा चुनाव में मिली हार के बाद मायावती ने शनिवार को कहा कि इस चुनाव में अखिलेश यादव ने निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भइया पर भरोसा करते हुए राजनीतिक रूप से अपरिपक्वता का परिचय दिया।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि अखिलेश की जगह यदि वह होतीं तो सपा के उम्मीदवार को जिताने की जगह पहले बसपा के उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित करातीं।

जिला एवं जोनल कोऑर्डिनेटर्स के साथ सोमवार को हुई बैठक के बाद जारी प्रेस नोट में मायावती ने कथित रूप से कहा कि 2019 में भाजपा को सत्ता से दूर रखने के लिए सपा, बसपा और सभी विपक्षी पार्टियों को एक साथ आना चाहिए।

Top Stories