Monday , June 18 2018

चीन में मुसलमानों पर एक और प्रतिबंध, मुस्लिम बच्चे मजहबी शिक्षा नहीं पढ़ सकेंगे

चीन के हुयी मुस्लिम अल्पसंख्यकों के लिए मस्जिदों में धार्मिक शिक्षा में संलग्न युवा लोगों पर एक हालिया प्रतिबंध पर एक अवांछित हस्तक्षेप है। आखिर कैसे वे अपने जीवन का नेतृत्व करेंगे। उनको डर है कि चीनी सरकार गांसु के इस उत्तर-पश्चिम प्रांत में भी बैन कर सकते हैं जो कि कुछ शिनचियांग क्षेत्र में उइगुर मुस्लिमों पर कार्रवाई के समान हैं।

चीन में अल्पसंख्यक उइगुर मुसलमानों को अकसर प्रताड़ित किए जाने की खबरें आती हैं. शिनचियांग में रहने वाले उइगुर मुसलमानों को जहां कई तरह की पाबंदियों का सामना करना पड़ता है, वहीं हुई लोग अपने धार्मिक रीति रिवाजों पर खुल कर अमल कर सकते हैं. इसकी वजह है सदियों से अन्य लोगों के साथ उनका घुलना मिलना. साथ ही, उन्होंने अपनी पहचान को भी बनाए रखा है.

ऐतिहासिक रूप से हुई लोग सिल्क रूट के जरिए कारोबार करने वाले फारसी, अरब और मंगोल व्यापारियों की संतानें हैं ये, जो 1200 साल पहले चीन पहुंचे थे. सदियों से हान और हुई लोग कमोबेश शांति से एक दूसरे का साथ रहे हैं. हुई लोग मैंडरिन भाषा बोलते हैं और उन्होंने अपनी परंपराओं को स्थानीय रीति रिवाजों के अनुरूप ढाल लिया है.

चीन के शिनचियांग में अधिकारियों ने कुछ मुस्लिम नामों पर बैन लगा दिया है. इसका मतलब है कि वहां रहने वाले उइगुर लोग अपने बच्चों को ये नाम नहीं दे पाएंगे. विदेशों में रहने वाले उइगुर कार्यकर्ताओं के अनुसार कुल मिलाकर 29 नामों पर पाबंदी लगायी गयी है, जिनमें मोहम्मद, जिहाद और इस्लाम जैसे नाम शामिल हैं. जिन नामों को चीनी अधिकारियों ने बैन किया है, उनमें कई पदों और जगहों के नाम हैं तो कई राजनीतिक शख्सियतों के. मसलन इमाम, हज, तुर्कनाज, अहजर और वहाब के साथ साथ इस लिस्ट में सद्दाम, अराफात, मदीना और काइरो जैसे नाम भी शामिल हैं.

शिनचियांग प्रांत के कशगर में एक चीनी अधिकारी ने बताया कि नामों पर पाबंदी इसलिए लगायी गयी है क्योंकि उनकी एक “धार्मिक पृष्ठभूमि” है. हालांकि यह साफ नहीं है कि इस प्रतिबंध पर कितनी सख्ती से अमल हो रहा है और कितने इलाके में इसे लागू किया जा रहा है.

शिनचियांग में लगभग एक करोड़ उइगुर लोग रहते हैं जो तुर्क मूल के हैं. सुन्नी इस्लाम को मानने वाले इन लोगों पर पहले भी कई तरह की धार्मिक पाबंदियां लगाए जाने की खबरें आती रही हैं. माना जा रहा है कि नामों पर प्रतिबंध लगाना इस क्षेत्र को धर्मनिरपेक्ष बनाने की सरकार की कोशिशों का हिस्सा हो सकता है. चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता शिनचियांग में बढ़ते कट्टरपंथ को लेकर चिंतित हैं. पार्टी के शिनचियांग प्रमुख ने कहा कि इस इलाके में मध्य एशिया से कुट्टरपंथियों की घुसपैठ हो रही है. हाल के समय में शिनचियांग में कई हमले हुए हैं.

दूसरी तरफ उइगुर कार्यकर्ताओं और मानवाधिकार समूहों का कहना है कि चीन की तरफ से लगाई जा रही पाबंदियों के कारण ही कट्टरपंथी सोच और हिंसा को बढ़ावा मिल रहा है. चीन में रहने वाले उइगुर मुसलमान न तो दाढ़ी रख सकते हैं और न ही धार्मिक कपड़े पहन सकते हैं. चीन सरकार के नए नियमों के मुताबिक उन पर कई बंदिशें लगाई गई हैं. उइगुर चीन में रहने वाला एक जातीय अल्पसंख्यक समुदाय है. ये लोग सांस्कृतिक रूप से खुद को चीन के मुकाबले मध्य एशियाई देशों के ज्यादा करीब पाते हैं. मुख्यतः चीन के शिनचियांग प्रांत में रहने वाले उइगुर लोग न तो सार्वजनिक रूप से नमाज पढ़ सकते हैं और न ही धार्मिक कपड़े पहन सकते हैं.

चीनी अधिकारियों ने स्थानीय मुसलमान आबादी से नमाज़ के दौरान इस्तेमाल होने वाली चटाई और कुरान समेत सभी धार्मिक सामानों को जमा करने का आदेश दिया है. रेडियो फ्री एशिया के मुताबिक अधिकारियों ने स्थानीय लोगों और मस्जिदों से कहा है कि इन आदेशों का तत्काल पालन करें या सज़ा के लिए तैयार रहें. निर्वासित ग्लोबल वीगर कांग्रेस के प्रवक्ता डिलसैट रैक्सिट के अनुसार, पिछले दो तीन महीने से काशगर, हुनान और अन्य क्षेत्रों से इसी तरह की कार्रवाई की जानकारी मिली है. उन्होंने कहा कि उन्हें यह सूचना मिली है कि प्रत्येक वीगर को इस्लाम से संबंधित सभी चीजों को जमा करना होगा.

सूचना के मुताबिक, ‘थ्री इलीगल एंड वन आइटम’ अभियान के तहत मुसलमानों की पवित्र किताब समेत सभी धार्मिक वस्तुएं और संभावित चरमपंथी सामानों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जैसे कि रिमोट कंट्रोल वाले खिलौने, बड़े चाकू और विस्फ़ोटक सामग्री. चीन के पश्चिमी हिस्से में शिंजियांग प्रांत में वीगर समुदाय के करीब एक करोड़ लोग रहते हैं. जातीय रूप से ये तुर्क मुसलमान हैं.

लेकिन जनवरी में, गुनेउ काउंटी में स्थानीय सरकार के शिक्षा अधिकारियों, जो एक भारी-मुस्लिम क्षेत्र है, ने नव वर्ष के विराम के दौरान धार्मिक शिक्षा में भाग लेने पर प्रतिबंध लगा दिया। यह सप्ताह भर की सार्वजनिक अवकाश अवधि के आसपास कई हफ्तों तक रहता है जो गुरुवार को शुरू हुआ था।

यह स्पष्ट नहीं है कि प्रतिबंध, उइघुर समुदायों के अधिकारियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले प्रतिबंधों के समान, अवकाश के बाद जारी रहेगा, लेकिन ऐसा लगता है कि नए राष्ट्रीय नियमों के अनुरूप होना चाहिए, जो 1 फरवरी को प्रभावी हो गए थे।

गनसु के तथाकथित “स्वायत्त” प्रान्त की राजधानी, गुंघे के पश्चिम में करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लिनक्सिया शहर में रहने वाले लोगों ने रॉयटर्स को बताया कि इसी तरह के प्रतिबंध वहां मौजूद थे।

हेनान के पूर्वी प्रांत के हुई इमाम ली हईयांग ने कहा, “हमें लगता है कि यह हास्यास्पद है और आश्चर्यचकित हैं”, जो एक व्यापक रूप से परिचालित ऑनलाइन लेख में चीन की संविधान का उल्लंघन करने की नीति का निंदा करता है।

इन धार्मिक मामलों के लिए चीन के राज्य प्रशासन ने टिप्पणी नहीं किया, लेकिन राज्य परिषद सूचना कार्यालय ने कहा कि चीन ने कानून के तहत धार्मिक स्वतंत्रता के नागरिकों को ‘ पुरुषों की दोपहर की प्रार्थना के लिए इंतजार चीन के लिनक्सिया, गांसु प्रांत, जातीय अल्पसंख्यक हुई मुस्लिमों की एक बड़ी आबादी के घर, 1 फरवरी, 2018 में एक मस्जिद से शुरू हुई।

“सभी जातीय समूह की धार्मिक स्वतंत्रता और कानून के मुताबिक अन्य हितों की सुरक्षा के दौरान, चीन भी अवैध गतिविधियों को पूरा करने के लिए धर्म के उपयोग पर कठोर रूप से रोकथाम करेगा और गंभीर रूप से रोक सकता है।”

राज्य मीडिया ने ध्वनि के प्रदूषण को रोकने के लिए स्पष्ट रूप से हुई क्षेत्रों में मस्जिदों से प्रार्थना करने के लिए लाउडस्पीकरों को हटाने के बारे में बताया है। अप्रैल में, सरकार द्वारा संचालित इस्लामी एसोसिएशन ऑफ चाइना ने कहा है कि नई मस्जिदों को पारंपरिक चीनी डिजाइनों के पक्ष में है वास्तुकला के “अरबकरण” को चीन अस्वीकार करेगा।

दुनिया भर में व्यापक मुस्लिम समुदाय के साथ चीन की छवि बीजिंग के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एशिया, यूरोप और अफ्रीका को जोड़ने वाले बुनियादी ढांचे के निर्माण के अरबों डॉलर निवेश करने के लिए राष्ट्रपति शी की “सिल्क रूट” को आगे बढ़ाती है। सितंबर में भारी-हू निंग्क्सिया क्षेत्र में चीन-अरब राज्यों के एक्सपो में इसे चीन के करीब 20 मिलियन मुसलमानों के बीच, चीन ने अधिक धर्मनिरपेक्ष हुयी बनाने की मांग की है।

TOPPOPULARRECENT