Thursday , September 20 2018

लंदन में 423 नई मस्जिदें शुरू

इस्लामिक प्रचारकों में से एक मौलाना सैयद रजा रिजवी के मुताबिक लंदन इस्लामिक मुस्लिम देशों के मुकाबले ज्यादा इस्लामी है। साहित्य के नोबेल पुरस्कार विजेता वॉले सोयिंका कम उदार थे। उन्होंने यूके को इस्लामवादियों के लिए ‘कैसपिट’ कहा था। लंदन के महापौर सादिक खान ने पिछले साल वेस्टमिंस्टर में घातक आतंकवादी हमले के बाद कहा था कि आतंकवादी लंदन में बहुसंस्कृतिवाद के खिलाफ नहीं खड़े हो सकते हैं। लेकिन इसके विपरीत सच है।

लंदन के ईसाई धर्म के दुर्गम खंडहर पर 423 नए मस्जिदों के साथ निर्माण किया जा रहा है। लंदन में कई प्रतिष्ठित चर्च मस्जिदों में परिवर्तित हो गए हैं। गैटेस्टोन इंस्टिट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार मिस्र के समुदाय द्वारा हयात यूनाइटेड चर्च को मस्जिद में परिवर्तित किया गया था। सेंट पीटर चर्च को मदीना मस्जिद में परिवर्तित कर दिया गया है। ईंट लेन मस्जिद एक पूर्व मेथोडिस्ट चर्च पर बनाया गया।

न केवल इन भवनों को परिवर्तित किया जाता है, बल्कि लोगों के इस्लाम में धर्मान्तरित होने की संख्या दोगुनी हो गई है, अक्सर वे कट्टरपंथी इस्लाम को गले लगाते हैं। डेली मेल ने लंदन के केंद्र में एक चर्च और एक मस्जिद के एक-दूसरे से कुछ मीटर की तस्वीरें प्रकाशित कीं। चर्च ऑफ सैन गियोर्जियो में 1,230 भक्तों को समायोजित करने के लिए डिज़ाइन किया गया जबकि सांता मारिया की चर्च में केवल 12 लोग इकट्ठे हुए।

पास की ब्रूने स्ट्रीट एस्टेट मस्जिद में एक अलग समस्या है। इसका छोटा कमरा है और इसमें केवल 100 लोग ही आते हैं। शुक्रवार को सड़क पर लोग नमाज पढ़ते हैं। वर्तमान रुझानों को देखते हुए इंग्लैंड में ईसाइयत एक अवशेष बन रही है, जबकि इस्लाम भविष्य का धर्म होगा। बर्मिंघम जो दूसरा सबसे बड़ा ब्रिटिश शहर में एक मीनार आकाश की ओर हावी है।

साल 2020 तक अनुमान है कि नमाज पढ़ने वाले मुसलमानों की तादाद कम से कम 683,000 तक पहुंच जाएगी जबकि साप्ताहिक प्रार्थना में भाग लेने वाले ईसाइयों की संख्या घटकर 679,000 हो जाएगी। अंग्रेजी शहरों का नया सांस्कृतिक परिदृश्य आ गया है। नेशनल सेक्युलर सोसाइटी के निदेशक केथ पोर्टियू वुड ने कहा कि 20 साल में चर्च के लोगों की तुलना में मुस्लिम अधिक सक्रिय होने की संभावना है।

2001 के बाद से सभी संप्रदायों के 500 चर्च निजी घरों में बदल दिए गए हैं। इसी अवधि के दौरान ब्रिटिश मस्जिदों का विस्तार किया गया है। नटसीन सोशल रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार मुसलमानों की संख्या एक लाख तक बढ़ गई है। जनसंख्या की दृष्टि से, ब्रिटेन बर्मिंघम, ब्रैडफोर्ड, डर्बी, डिजबरी, लीड्स, लीसेस्टर, लिवरपूल, ल्यूटन, मैनचेस्टर, शेफ़ील्ड, वाल्थम वन और टॉवर हैमलेट जैसे स्थानों में ब्रिटेन के एक तेजी से इस्लाम उभर रहा है।

सबसे महत्वपूर्ण शहरों में भारी मुस्लिम आबादी है जिसमें मैनचेस्टर (15.8 फीसदी), बर्मिंघम (21.8फीसदी) और ब्रैडफोर्ड (24.7फीसदी)। इन्स बोवेन के अनुसार ब्रिटेन में संयुक्त राज्य में 56 फीसदी की तुलना में 1,700 मस्जिदों में से सिर्फ दो इस्लाम की आधुनिकतावादी व्याख्या का पालन करते हैं।

ब्रिटेन में वहाबी छह प्रतिशत मस्जिदों का नियंत्रण करते हैं, जबकि कट्टरपंथी देव बंदी 45 फीसदी तक नियंत्रण करते हैं। ज्ञान केंद्र से एक सर्वेक्षण के मुताबिक, ब्रिटेन के एक तिहाई मुसलमान ब्रिटिश संस्कृति का हिस्सा नहीं हैं। लंदन शरिया अदालतों से भरा है और औपचारिक रूप से इनकी संख्या 100 तक हैं।

TOPPOPULARRECENT