Tuesday , August 21 2018

वैज्ञानिक बनाएँगे आधुनिक ‘पैगंबर नूह की कश्ती’! 4.7 अरब डॉलर की है परियोजना

अब इस आधुनिक दुनिया के वैज्ञानिक एक आधुनिक पर पैगंबर नूह (अलैहिसस्सलाम) की कश्ती बनाने की उम्मीद कर रहे हैं जो ‘विकास की हमारी समझ में क्रांतिकारी बदलाव’ कर सकता है। 24 अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों का एक समूह अगले दशक में सभी 1.5 लाख ज्ञात पौधों, जानवरों और फंगस के जेनेटिक कोड संग्रहित करना चाहते हैं। प्रजातियों के विकास और हमारे पर्यावरण को बेहतर बनाने के बारे में और अधिक जानने के लिए वैज्ञानिकों द्वारा जीवन की परिणामी लाइब्रेरी का उपयोग किया जा सकता है। 4.7 अरब डॉलर की परियोजना को आधुनिक जीवविज्ञान के इतिहास में ‘सबसे महत्वाकांक्षी परियोजना’ के रूप में वर्णित किया जा रहा है। बायोजीनोम प्रोजेक्ट का नेतृत्व वाशिंगटन में स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूशन के शोधकर्ताओं द्वारा किया जा रहा है। उनका मानना ​​है कि पृथ्वी पर सभी प्रजातियों के डीएनए को सूचीबद्ध करना दवा, कृषि और संरक्षण में नवाचारों के लिए एक महत्वपूर्ण संसाधन हो सकता है।

पैगंबर नूह की कश्ती के बारे में हम सभी जानते हैं जिसमें अल्लाह ने नूह को यह हुक्म दिया कि वह ईमान वालों को और हर प्राणी में से एक एक जोडे को अपने साथ कश्ती में बिठा लें हर जाति में से दो-दो के जोड़े उसमें चढालो (हूद, 40)। तो नूह ने ईमान वालों को और हर प्राणी में से एक-एक जोडे को अपने साथ कश्ती में सवार कर लिया। जब नूह ईमान वालों और जानवरों को लेकर कश्ती में सवार हो गये, और हर एक अपनी-अपनी जगह बैठ गया, तो ज़ोरदार बारिश होने लगी, और एक सैलाब आया और सारे जानवर इंसान को फना कर डाला सिवाय जो कश्ती में बैठे थे। मतलब वही बचा जो उस कश्ती में सवार था और उसी जाती प्रजाति का ही फैलाव फिर से हो पाया। बरहाल यहां पैगम्बर नूह ने भी अपनी कश्ती में जीव जंतुओं और इंसान सहित अन्य प्राणियों के संरक्षित कीए वरना, वरना उन प्राणियों का फैलाव नहीं हो पाता, क्योंकि सैलाब और प्राकृतिक आपदा से नहीं बच पाते, लेकिन यहां एक बात जरूर ध्यान दें कि अल्लाह का हुक्म वही था जो नूह ने किए।

वर्तमान में, पृथ्वी की प्रजातियों का 0.2 प्रतिशत से भी कम को एक विशेष क्रम में व्यवस्थित किया गया है। स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूशन के जॉन क्रेस ने द टाइम्स को बताया, ‘हम जीवन की पूरी लाइब्रेरी तैयार करेंगे जिसे हम नमूना और किसी भी उद्देश्य के लिए तैयार कर सकते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हम अपने पर्यावरण और खुद को सुधारने और जीवन के विकास की हमारी समझ में क्रांतिकारी बदलाव के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।’

dna prajati
24 अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों का एक समूह अगले दशक में सभी 1.5 लाख ज्ञात पौधों, जानवरों और फंगस के जेनेटिक कोड एकत्र और संग्रहित करना चाहता है जिसका बजट 4.7 अरब डॉलर है।

मानव जीनोम का पहला डिकोडिंग 2003 में मानव जीनोम प्रोजेक्ट के हिस्से के रूप में पूरा हुआ था, इसमें 15 साल लगे और 3 अरब डॉलर खर्च हुए। इस परियोजना का मानव चिकित्सा पर बड़ा असर पड़ा और विशेषज्ञों का अनुमान है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था में लगभग 1 लाख करोड़ डॉलर का वित्तीय लाभ था। शोधकर्ताओं का कहना है कि बायो जीनोम परियोजना भी अधिक अवसर प्रदान कर सकती है। नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की कार्यवाही में प्रकाशित पेपर में शोधकर्ताओं ने लिखा, ‘पृथ्वी की जैव विविधता की हमारी समझ में वृद्धि और जिम्मेदारी से अपने संसाधनों को सावधानीपूर्वक रखना, नई सहस्राब्दी की सबसे महत्वपूर्ण वैज्ञानिक और सामाजिक चुनौतियों में से एक है।’

शोधकर्ताओं ने कहा कि नतीजे मानवता का सामना करने वाले प्रमुख मुद्दों की एक विस्तृत श्रृंखला को सूचित करेंगे, जैसे जैव विविधता पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव, लुप्तप्राय प्रजातियों और पारिस्थितिक तंत्रों का संरक्षण, और पारिस्थितिक तंत्र सेवाओं के संरक्षण और संवर्धन। अनुमानित दस से 15 लाख प्रजातियां हैं जिन्हें हम अभी भी नहीं जानते हैं, जिनमें से अधिकांश महासागरों में कोशिका जीव और छोटे कीड़े हैं। विलुप्त होने की दर वर्तमान में एक हजार गुना अधिक है, जहां कोई इंसान नहीं हो तब। परियोजना के उद्देश्य का एक हिस्सा विलुप्त होने के कगार पर मौजूद इन प्रजातियों के कुछ ज्ञान को बचाना है।

शोधकर्ताओं ने लिखा, ‘हमारे ग्रह पर लाखों ज्ञात और अज्ञात जीवों के जीनोमों में अकल्पनीय जैविक रहस्य आयोजित किए जाते हैं।’
जीवविज्ञान के ‘अंधेरे पदार्थ’ में ग्रहों के पारिस्थितिक तंत्र को बनाए रखने की क्षमता को अनलॉक करने की कुंजी हो सकती है जिस पर हम निर्भर करते हैं और बढ़ती दुनिया की आबादी के लिए जीवन सहायता प्रणाली प्रदान करते हैं।’ पूर्ण परियोजना से डिजिटल स्टोरेज क्षमता के लिए एक अरब गीगाबाइट की आवश्यकता होगी। इलिनोइस विश्वविद्यालय के जीन ई रॉबिन्सन ने कहा, ‘पृथ्वी बायोजीनोम परियोजना हमें जीवन के इतिहास और विविधता में अंतर्दृष्टि प्रदान करेगी और इसे बेहतर तरीके से समझने में हमारी सहायता करेगी।’

कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय के हैरिस लेविन ने कहा ‘वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि शताब्दी के अंत तक सभी प्रजातियों में से आधे से अधिक पृथ्वी से गायब हो जाएंगे, और मानव जीवन के परिणाम अज्ञात हैं, लेकिन संभावित रूप से विनाशकारी हैं,’। प्रजातियों को इकट्ठा करना एक बड़े उपक्रम होगा जिसमें वैज्ञानिकों को प्राकृतिक इतिहास संग्रहालयों, वनस्पति उद्यान, चिड़ियाघर और एक्वैरिया जैसे संस्थानों के साथ भागीदारी करने की प्रक्रिया में कई अलग-अलग प्रजातियों तक पहुंच प्राप्त करने के लिए प्रक्रिया शुरू होगा।

TOPPOPULARRECENT