‘बैतूल मुक़द्दस’ को दुसरे राज्य के हवाले करना मुस्लिम- ईसाई दोनों धर्मों का अपमान है: ईसाई धार्मिक नेता

‘बैतूल मुक़द्दस’ को दुसरे राज्य के हवाले करना मुस्लिम- ईसाई दोनों धर्मों का अपमान है: ईसाई धार्मिक नेता
Click for full image

संयुक्त राष्ट्र महासभा में अमेरिकी प्रस्ताव के शर्मनाक हार के बाद फिलिस्तीन में स्थित ईसाई समुदाय ने भी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के यरूशलेम को इजराइल की राजधानी करार देने की घोषणा को नकारते हुए कहा है कि यरूशलेम को इजराइल के हवाले करना मुसलमानों और ईसाईयों दोनों का अपमान है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

विदेशी मीडिया के अनुसार अधिकृत पश्चिमी तट के दक्षिणी शहर बैते लहम में एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए ईसाई धार्मिक नेताओं ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के यरूशलेम के ऐलान को मुसलमानों और ईसाइयों का अपमान करार दिया।

उन्होंने कहा कि हम फिलीस्तीनी होने के नाते मुसलमान और ईसाई दोनों जातियां अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा बैतूल मुक़द्दस को इजराइल की राजधानी घोषित करने को अस्वीकार करते हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति की घोषणा केवल मुसलमानों ही नहीं बल्कि पूरी फ़िलिस्तीनी जनता का अपमान है। बैतूल मुकद्दस फिलीस्तीनी राष्ट्र का संयुक्त मानव, आध्यात्मिक राष्ट्रीय और धार्मिक केंद्र है। जिसे किसी गैर राज्य को नहीं दिया जा सकता।

Top Stories