Friday , April 20 2018

श्रीलंका में इमरजेंसी के बावजूद मुस्लिम विरोधी दंगे बढ़े, सोशल मीडिया बंद

आपातकाल के बावजूद मध्य श्रीलंका में मुस्लिम विरोधी दंगे भड़क उठे। सरकार ने इसे रोकने के लिए सोशल मीडिया पर रोक लगा दी है।

पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश के तहत इलाके मे कर्फ्यू जारी रखा।

इलाके के एक निवासी ने बताया यहां स्थिति काफी डरावनी है। बताया कि दो मस्जिद और कई मुस्लिमों की दुकानों को बुधवार को निशाना बनाया गया।

इस हमले का आरोप इस इलाके में रहने वाले बौद्ध समुदाय के लोगों पर लगाया जा रहा है।

हिंसा में हुए नुकसान का अभी तक आंकलन नहीं किया जा सका है। बता दें कि म्यांमार की तरह ही श्रीलंका में भी लंबे समय से मुस्लिमों और बौद्धों के बीच अकसर तनाव की स्थिति पैदा होती रही है।

श्रीलंका

यहां के सिंहली बौद्ध अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय को खतरे के तौर पर देखते हैं।

क इंटरनेट कंपनी ने बताया कि सरकार ने हिंसा वाले इलाकों में पॉपुलर सोशल मीडिया नेटवर्क को ब्लॉक करने का निर्देश दिया है।

कंपनी के अधिकारी ने बताया कि यह आदेश मुख्य रूप से फेसबुक, इंस्टाग्राम, वाइबर और वॉट्सऐप के लिए था। बताया जा रहा है कि इनमें से कुछ नेटवर्क को राजधानी कोलंबों में भी बंद किया गया है। जबकि देश के अन्य इलाकों में इनकी सर्विस धीमी करने के लिए कहा गया है।

बता दें कि श्रीलंका में बौद्ध और मुस्लिम समुदाय के बीच सांप्रदायिक हिंसा के बाद 10 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा की थी। श्रीलंका के कैंडी जिले में इस हिंसा की शुरुआत हुई थी। हालांकि सरकार के अधिकारियों ने इस हिंसा के लिए सीधे तौर पर बौद्ध समुदाय के लोगों को जिम्मेदार नहीं ठहराया है। राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद कैबिनेट मिनिस्टर रउफ हकीम ने कहा कि हिंसा के पीछे जो भी लोग जिम्मेदार हैं, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। 

TOPPOPULARRECENT