2025 तक पुरा मिडिल ईस्ट हमारी निगरानी की जद में होगा : इजराईल

2025 तक पुरा मिडिल ईस्ट हमारी निगरानी की जद में होगा : इजराईल
Click for full image

तेल अवीव : इज़राइल रक्षा बल (आईडीएफ) के पूर्व खुफिया प्रमुख अहरोन जिवी फर्कस ने स्वीकार किया है कि देश के ग्राउंड सैनिकों की खुफिया क्षमताओं को अभी तक विकसित नहीं किया गया है। जेरूसलम पोस्ट के मुताबिक, पूर्व इज़राइली रक्षा बल (आईडीएफ) के खुफिया प्रमुख, अहरोन जिवी फर्कस ने तेल अवीव में एक सम्मेलन में कहा कि कम से कम 10,000 उपग्रह देश को 2025 तक मध्य पूर्व की निरंतर वीडियो निगरानी प्रदान करने में मदद करेंगे।

फर्कस ने जोर देकर कहा कि यह इज़राइली सेना को किसी भी समय और किसी भी स्थान पर आतंकवादियों को सफाया करने के ऑपरेशन को मदद करेगा। इजरायल की खुफिया क्षमताओं के फौरी विकास की ओर इशारा करते हुए, उन्होंने एक ही समय में स्वीकार किया कि इस पहलू में देश की भूमि बलों को अभी तक विकसित नहीं किया किया गया है। फर्कस ने कहा कि जबकि इज़राइल “एयर डिफेंस में सर्वोच्च है, जबिक जमीनी युद्ध में कमी है।”

सैन्य संचालन के दौरान खुफिया डेटा के महत्व पर जोर देते हुए उन्होंने कहा, “जब तक हम जमीन युद्ध की सर्वोच्चता हासिल नहीं करेंगे, हम अपने खिलाफ रॉकेट को रोकने में सक्षम नहीं हो सकेंगे।”

इजरायल के रक्षा बल के प्रवक्ता ने कहा कि इजरायल के विमान ने उत्तरी गाजा में हमास आतंकवादी लक्ष्यों पर हमला किया था, इसके बाद तेल अवीव ने सडरोट के सीमावर्ती शहर के पास हमास के ठिकानों पर हमला किया था. यह घटनाएं गाजा पट्टी में फिलिस्तीनियों द्वारा बड़े पैमाने पर विरोध के बीच आती हैं, जो इज़राइल की स्थापना की 70 वीं वर्षगांठ पर और यरूशलेम में अमेरिकी दूतावास खोलने के लिए एक समारोह के बाद हुई थी।

फिलीस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इजरायली सुरक्षा बलों के साथ आने वाले संघर्षों में कुल 61 फिलिस्तीन मारे गए और 2,700 से ज्यादा घायल हो गए। इजरायल के रक्षा मंत्री एविगडोर लिबरमैन ने गाजा हिंसा के लिए हमास के नेताओं को दोषी ठहराया, जबकि रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जाखारोवा ने कहा कि मॉस्को ने सभी पार्टियों को संयम बरतने और आगे बढ़ने से रोकने के लिए संघर्ष कर रहा है। उन्होंने कहा कि यरूशलेम की स्थिति पर रूस का रुख स्थिर बनी हुई है और मॉस्को दो राज्यीय समाधान के लिए हमेशा खड़ा है।

Top Stories