VIDEO: जानिये, रमज़ान की फ़जीलत और चांद देखें तो क्या दुआ पढ़े?

   

इस्‍लाम को मानने वालों के लिए रमजान बेहद मुकद्दस महीना है। इस महीने में रोजा, नमाज, जकात और कुरान की तिलावत करना फर्ज है। मुस्लिम समाज के लोग पूरे महीने रोजा रखकर बुरी आदतों को छोड़ते हैं और अच्‍छाई के रास्‍ते पर चलते हैं।

अगर आप रमज़ान शुरु होने की चांद देखते हैं तो आपको एक खास दुआ पढ़ना चाहिए। इस वीडियो में देखिए, आपको चांद देखने के बाद कौन सी दुआ पढ़नी है।
VIDEO: जानिये, रमज़ान की फ़जीलत और चांद देखें तो क्या दुआ पढ़े? 1


माना जा रहा है कि इस बार रमजान का महीना 5 मई 2019 से शुरू हो रहा है। हालांकि, चांद दिखने पर ही रमजान के शुरू होने की सही तारीख तय होगी। इसलिए यह तिथि बदल भी सकती है।

[get_fb]https://www.facebook.com/552877158070987/posts/2967430553282290/[/get_fb]

जागरण डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार, इस्‍लामिक कैलेंडर के मुताबिक रमजान नौवां महीना है। इस्‍लामिक विद्वानों के मुताबिक इस महीने में खुदा अपने बंदों पर रहमत की बारिश करता है। रमजान में अन्‍य दिनों की अपेक्षा 70 गुना ज्‍यादा सबाब मिलता है। रमजान के दौरान जन्‍नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं। जानकारों के मुताबिक इस बार रमजान की शुरूआत 4 मई से हो रही है।

[get_fb]https://www.facebook.com/552877158070987/posts/2961501277208551/[/get_fb]

इस्‍लामिक विद्वानों के मुताबिक यह तिथि चांद के दीदार पर निर्भर करती है। उनके अनुसार यदि 5 मई की शाम को चांद का दीदार होता है तो मुकद्दस रमजान की शुरूआत मानी जाएगी।

ऐसा होने पर 5 मई की रात को सहरी के बाद से रोजा शुरू हो जाएगा। वहीं, चांद का दीदार 5 की बजाय 6 मई को होता है तो रमजान माह शुरूआत एक दिन आगे बढ़ जाएगी और पहले रोजे की सहरी 6 मई की रात को की जाएगी।

जानकारों के मुताबिक सहरी का वक्‍त सुबह 4 बजे के आसपास और इफ्तार का वक्‍त शाम 6:30 बजे के आसपास रहेगा। हालांकि यह समय अलग अलग जगह के हिसाब से बदल भी सकता है।