चोरी के शक में मुस्लिम लड़के को पीटा, जय श्री राम का नारा लगाने के लिए किया मजबूर, अस्पातल में मौत

चोरी के शक में मुस्लिम लड़के को पीटा, जय श्री राम का नारा लगाने के लिए किया मजबूर, अस्पातल में मौत

झारखण्ड- चोरी के शक में झारखंड के खरसावां जिले में भीड़ द्वारा मुस्लिम व्यक्ति पर हमला किया गया था। जिसके बाद असपताल में उसकी मौत हो गई। पीड़ित की पहचान 24 वर्षीय तबरेज़ अंसारी के रूप में हुई है।  इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक मामला 18 जून का है खबर के मुताबिक तकीडीह गाँव में कुछ लोगों ने उन्हें घेर लिया. चोरी का आरोप लगाकर रात भर उन्हें बिजली के पोल से बाँधकर रखा. उनसे ख़ूब मारपीट की गई और जय श्री राम व जय हनुमान बोलने के लिए कहा. नहीं बोलने पर बहुत पीटा गया

घटना के बाद से भीड़ द्वारा हमला किये गए कई वीडियो वायरल हुए हैं। एक वीडियो में, एक आदमी तबरेज अंसारी को एक लकड़ी की छड़ी से मारते हुए दिखाई देता है क्योंकि बाद वाला उसे जाने देने के लिए भीख मांगता है। एक अन्य वीडियो में तबरेज को “जय श्री राम” और “जय हनुमान” का जाप करने के लिए मजबूर किया गया।

Another muslim man Tabrez Ansari lynched to death in BJP ruled Jharkhand after being severely beaten by Hindu terrorists. 24 year old Tabrez worked in Pune as a welder and had come to his village in Kharsawan district to celebrate Eid with his family. Videos of Tabrez being lynched brutally by Hindu mob and forced to chant provocative slogans like Jai Shri Ram and Jai Hanuman have gone viral on social media platforms.It was just two days ago, I saw the video of BJP Mla Arjun Singh provoking his supporters to walk in a streets with a group of 100 – 150 people to beat muslims, he is provoking Hindu's to beat Muslims wherever they find them in presence of police. So one can not say that these lynchings are done by non state actors. This is clear case of state sponsered pogrom against minorities. Even organisation like UN indicated the same. UN High Commissioner for Human rights Michelle Bachele says Indian divisive political agenda has extensively marginalized Muslims and other minorities in the country. She said they have received reports about increasing harassment and targeting of minorities.

Gepostet von Sameer Siddiqui am Sonntag, 23. Juni 2019

रिपोर्टों के मुताबिक, भीड़ द्वारा पीटे जाने के बाद तबरेज़ को 18 जून को पुलिस को सौंप दिया गया था और उस दिन से वह न्यायिक हिरासत में था। हालत खराब होने के बाद उन्हें 22 जून को एक अस्पताल ले जाया गया था। जहाँ उसकी मौत हो गई ।

तबरेज अंसारी की  हत्या के मामले में झारखण्ड पुलिस ने पप्पू मंडल  नाम के एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया है।

Top Stories